1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Jharkhand : देवघर रोपवे हादसे में फंसे 32 पर्यटकों को वायु सेना ने सुरक्षित निकाला, 2 लोगों की मौत

Jharkhand : देवघर रोपवे हादसे में फंसे 32 पर्यटकों को वायु सेना ने सुरक्षित निकाला, 2 लोगों की मौत

वायु सेना के हेलीकॉप्टर से एयरलिफ्ट के दौरान स्लिप होकर गिरने से एक व्यक्ति की मौत, अंधेरा होने के कारण रेस्क्यू ऑपरेशन रोका गया, कल सुबह से फिर चलाया जाएगा ऑपरेशन।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

देवघर, 11 अप्रैल। झारखंड के देवघर जिले में स्थित त्रिकुट पर्वत पर रोपवे से सफर के दौरान फंसे हुए लोगों में सोमवार शाम 6 बजे तक 32 पर्यटकों को सुरक्षित निकाला गया है। इस हादसे में 2 लोगों की जान चली गई। इनमें एक महिला की मौत की पुष्टि हुई है, जबकि एक व्यक्ति की मौत हेलीकॉप्टर से एयरलिफ्ट के दौरान स्लिप होकर हुई है। अंधेरा होने के कारण सोमवार का रेस्क्यू ऑपरेशन रोक दिया गया है। अब भी करीब 15 लोग फंसे हुए हैं जिनके बचाव के लिए मंगलवार सुबह से अभियान चलाया जाएगा। वहीं मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने हादसे पर कहा कि त्रीकुट पहाड़ पर हुई घटना और इसमें हुई मौतों पर मैं अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। इस मामले की उच्च स्तरीय जांच की जाएगी।

पढ़ें :- झारखंड: मुस्लिम ने अपना नाम बदलकर की हिन्दू नाबालिग से दोस्ती, फिर रेप; सच पता चलने पर की हत्या की कोशिश

वहीं वायुसेना और NDRF ने सोमवार दोपहर 12 बजे MI-17 हेलीकॉप्टर की मदद से रेस्क्यू शुरू किया था। युद्ध स्तर पर चलाए गए अभियान के दौरान एक व्यक्ति की हेलीकॉप्टर से गिरकर मौत हो गई। रविवार को बचाए गए लोगों में सोमवार को पथरड्डा, सारठ निवासी सुमंती देवी (40) की मौत हो गई, जबकि एक बच्ची समेत 3 की हालत बेहद गंभीर है। घायलों में अधिकांश लोग बिहार के हैं।

पढ़ें :- Jharkhand : विधायकों से नकदी मिलने का मामला, CID ने एक भवन से बरामद किया 3 लाख रुपए से ज्यादा का कैश

उधर रोपवे हादसे पर झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने प्रदेश सरकार को घेरते हुए कहा कि मृतक के परिजनों को एक करोड़ मुआवजा सरकार को देना चाहिए। रघुबर दास ने राज्य सरकार को ‘लापरवाह’ करार दिया।

रोपवे के UTP स्टेशन का रोलर रविवार को अचानक टूट

पढ़ें :- Jharkhand : झारखंड विधानसभा सत्र में गूंजा कांग्रेसी विधायकों का मुद्दा, सरयू ने कहा- सीएम सोरेन करें मामला स्पष्ट

बतादें कि देवघर जिले के त्रिकुट पहाड़ की चोटी पर बने रोप-वे के UTP स्टेशन का रोलर रविवार को अचानक टूट गया। इसके बाद रोप-वे की 23 ट्रॉलियां एक झटके में 7 फीट नीचे लटक गयीं। सबसे पहले ऊपर की एक ट्रॉली 40 फीट नीचे खाई में गिर गयी, जिसमें 5 लोग सवार थे। स्थानीय लोगों और रोप-वे कर्मियों ने मिलकर उस ट्रॉली में फंसे 5 लोगों को बाहर निकाला। हादसे के दौरान ट्रॉलियों में 48 लोग फंसे थे, जिन्हें सुरक्षित निकालने में भारतीय वायुसेना, NDRF समेत अर्द्धसैनिक बलों की टीम सोमवार को दिन भर जुटी रही। NDRF की टीम ने रविवार की रात रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू करके 12 पर्यटकों को सुरक्षित निकाल लिया था। रात होने की वजह से ऑपरेशन बंद करना पड़ा था। सोमवार सुबह से ITBP और NDRF के साथ वायु सेना भी रेस्क्यू ऑपरेशन में शामिल हुई। वायु सेना ने दो MI-17 हेलीकॉप्टरों को बचाव कार्य में लगाया, जहां 48 लोग दुर्घटना के कारण रोपवे ट्रॉली में फंसे थे। वायु सेना के हेलीकॉप्टर से हवा में लटके लोगों तक बिस्किट और पानी के पैकेट पहुंचाए गए। फंसे हुए लोगों को निकालने में तेज हवा चलने की वजह से दिक्कतें आईं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...