1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Jharkhand : अवैध खनन को रोकने के लिए एक्शन मोड में आई सरकार, सीएम ने अधिकारियों को दिये कड़े निर्देश

Jharkhand : अवैध खनन को रोकने के लिए एक्शन मोड में आई सरकार, सीएम ने अधिकारियों को दिये कड़े निर्देश

Illegal Mining : अवैध खनन से जुड़े लोगों और माफियाओं पर शिकंजा कसने के लिए प्रदेश सरकार ने कमर कस ली है। सरकार की छवि को धूमिल करने वाले लोगों और माफियाओं पर कार्रवाई करने के लिए सीएम सोरेन ने दिये सख्त निर्देश। कहा अवैध खनन हुआ तो अफसरों की खैर नहीं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची, 21 मई 2022। Jharkhand News : झारखंड की सरकार इन दिनों अवैध खनन के मामले में घिरी हुई है। ये मुद्दा राज्य से होता हुआ सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच चुका है। लेकिन अब प्रदेश की सत्तारूढ़ सरकार की नींद खुलने लगी है, वो इस मुद्दे को लेकर एक्शन मोड में आ गई है। आज झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने राज्य में चल रहे अवैध खनन को रोकने के लिए पुलिस के आला अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक ली। इस बैठक में सीएम सोरेन ने अधिकारियों को आदेश देते हुए कहा कि राज्य में अवैध खनन पर लगाम लगाने के लिए माफियाओं पर कड़ी कार्रवाई करें। यदि इस कार्य में किसी प्रकार की कोताही बरती गई तो संंबंधित अधिकारियों को भी सरकारी कार्रवाई से गुजरना पड़ेगा।

पढ़ें :- Jharkhand : 15 दिनों की लंबी छुट्टी पर गए मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, अरूण सिंह को मिला प्रभार

आपको बता दें कि झारखंड में अवैध खनन का मुद्दा इन दिनों देश में चर्चा का विषय बना हुआ है। प्रदेश में खनन की चल रही लूट से सत्तारूढ़ सरकार कठघरे में खड़ी है। राज्य की विपक्षी दलों ने सरकार के खिलाफ जो माहौल तैयार किया है उसे सही करने के लिए सीएम हेमंत सोरेन अब पुरजोर कोशिश करने में जुट गए हैं। इसी वजह से आज उन्होंने प्रदेश के उपायुक्तों और पुलिस अधिक्षकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक की। इस बैठक में उन्होंने पुलिस अधिकारियों को अवैध खनन को रोकने के लिए निर्देश जारी किये।

सीसीटीवी कैमरे से निगरानी के दिये आदेश

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में सीएम सोरेन ने पुलिस के आला अधिकारियों को अवैध खनन पर रोक लगाने के लिए चैकपोस्ट पर सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा राज्य में अवैध खनन की वारदातें बढ़ने लगी है। इस कार्य से जुड़े सभी लोगों व माफियाओं पर तुरंत शिकंजा कसा जाए।

सरकार की छवि बिगाड़ने की साजिश

पढ़ें :- Jharkhand : CM हेमंत सोरेन और उनके करीबियों से जुड़े शेल कंपनी मामले में सुनवाई टली, IAS पूजा सिंघल के खिलाफ चार्जशीट दायर

प्रदेश सरकार अपने ऊपर लगे आरोपों को लेकर काफी गंभीर है और वह कहीं-न-कहीं इन आरोपों को धोना चाहती है। इस वजह से वो एक्शन मोड में आकर अवैध खनन के कार्य को रोकने में सक्रिय भूमिका अदा कर रही है। बैठक में सीएम सोरेन ने पुलिस अधिकारियों से कहा कि अवैध खनन के कार्यों को अंजाम देकर कई लोग सरकार की छवि को बिगाड़ने की साजिश कर रहे हैं। इस साजिश को नाकाम करने के लिए सीएम सोरेन ने राज्य की पुलिस को कड़े निर्देश दिये हैं।

शुक्रवार डीजीपी ने भी ली थी पुलिस अधिकारियों के साथ विशेष बैठक

पढ़ें :- Maa Kali : तृणमूल की महिला सांसद ने की मां काली पर विवादास्पद टिप्पणी, TMC ने महुआ मोइत्रा के बयान से किया किनारा

प्रदेश के डीजीपी नीरज सिंहा ने पुलिस विभाग के डीआईजी, एसपी व एसएसपी स्तर के अधिकारियों के साथ शुक्रवार को एक समीक्षा बैठक ली थी। इस दौरान डीजीपी ने राज्य में हो रहे अवैध खनन के कार्यों को लगाम लगाने के निर्देश दिये। डीजीपी ने बैठक में विभाग के अधिकारियों को सख्त चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि इस कार्य में किसी भी तरह की कोताही बरती गई तो संबंधित पुलिस अधिकारी को उसके लिए जिम्मेदार मानते हुए विभाग की ओर से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

साथ ही डीजीपी ने अधिकारियों को राज्य में सक्रिय अपराधियों की लिस्ट तैयार करने के भी निर्देश दिये और कहा कि जो अपराधी हाल ही में जमानत लेकर बाहर गये हैं उनको चिंहित किया जाए और उनकी जमानत को रद्द करने का कार्य किया जाए।

सीएम की इस बैठक पर क्या बोले बाबूलाल मरांडी

सीएम की इस बैठक पर विपक्षी भाजपा पार्टी ने कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया। आपको बात दें कि सरकार के अवैध खनन का मामला भाजपा द्वारा ही उजागर किया गया था। झारखंड राज्य में भाजपा नेता व पूर्व सीएम रहे बाबूलाल मरांडी ने इस बैठक पर ट्वीट करते हुए लिखा कि “अब इससे क्या फ़ायदा? आपने 28 महीने तक पत्थर, बालू, कोयला, ज़मीन-जायदाद का जो लूट किया और कराया उसका आप जनता को हिसाब दीजिये मुख्यमंत्री जी। माफिया तो आपके पाले हुए लोग नाक के नीचे बैठे हुए हैं। आप पापों का प्रायश्चित करें तो रातों रात सारे माफिया जेल में होंगे। विलंब किस बात का?”

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...