1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Jharkhand : कांग्रेस और JMM प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को सौंपा ज्ञापन, BJP पर आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप

Jharkhand : कांग्रेस और JMM प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को सौंपा ज्ञापन, BJP पर आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप

ज्ञापन में प्रतिनिधिमंडल ने बिना चुनाव आयोग की अनुमति के रविवार को बीजेपी की ओर से आयोजित हुई विश्वास रैली को आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला बताया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची, 06 जून। झारखंड कांग्रेस और झामुमो के संयुक्त प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी रवि कुमार से मुलाकात की और उन्हें एक ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में प्रतिनिधिमंडल ने बिना चुनाव आयोग की अनुमति के रविवार को बीजेपी की ओर से आयोजित हुई विश्वास रैली को आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला बताया है।

पढ़ें :- Jharkhand : 15 दिनों की लंबी छुट्टी पर गए मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, अरूण सिंह को मिला प्रभार

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि चुनाव में संभावित हार को देखकर BJP ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने से भी परहेज नहीं किया। उन्होंने कहा कि राज्य के जन जातीय समुदाय के द्वारा नकारे जाने के बाद धन बल का इस्तेमाल कर झारखंड के भोले-भाले आदिवासियों को भरमाने की कोशिश की है वो भी चुनाव आयोग की मंजूरी के बगैर। इसलिए विधि सम्मत कार्रवाई आवश्यक है।

पढ़ें :- Jharkhand : CM हेमंत सोरेन और उनके करीबियों से जुड़े शेल कंपनी मामले में सुनवाई टली, IAS पूजा सिंघल के खिलाफ चार्जशीट दायर

बीजेपी की रैली पर JMM और कांग्रेस के सवाल

वहीं झामुमो नेता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि बीजेपी ने रविवार की रैली में आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन कर ये बता दिया कि बीजेपी संविधान या संवैधानिक संस्थाओं का सम्मान नहीं करती है। चुनाव आयोग मामले को गंभीरता से लेते हुए विधि सम्मत कार्रवाई करे, हमारा यही आग्रह है। उन्होंने बताया कि प्रतिनिधिमंडल ने ज्ञापन सौंपकर मुख्य निर्वाचन अधिकारी का ध्यान आकृष्ट कराया है कि मांडर विधानसभा उपचुनाव की अधिसूचना जारी हो चुकी है। नामांकन की प्रक्रिया चल रही है। ऐसे में रविवार को रांची के मोरहाबादी मैदान में बीजेपी द्वारा जनजातीय समुदाय को केन्द्रित कर विश्वास रैली का आयोजन किया गया, जिसमें बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी शामिल हुए। साथ ही प्रदेश बीजेपी के सभी नेताओं ने भी मंच साझा किया। इस मामले में कांग्रेस, झामुमो का संयुक्त शिष्टमंडल ये जानना चाहता है कि क्या चुनाव आयोग से इस रैली के आयोजन की मंजूरी ली गई थी या नहीं। क्योंकि मंच से वक्ताओं के द्वारा सीधे-सीधे मांडर चुनाव को प्रभावित करने के दृष्टिकोण से लगातार उद्बोधन किया गया।

चुनाव आयोग से कार्रवाई की मांग

झामुमो नेता ने बताया कि जेपी नड्डा द्वारा मांडर विधानसभा चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार गंगोत्री कुजूर का नाम लेकर कमल खिलाने को लेकर विश्वास दिलाने की अपील किया जाना पूरी तरह से आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के दायरे में आता है। प्रदेश कांग्रेस एवं झामुमो का ये शिष्टमंडल चुनाव आयोग से आग्रह करता है कि अगर इस रैली की अनुमति विधि-सम्मत तरीके से ली गई तो इस रैली का पूरा खर्च घोषित उम्मीदवार के चुनावी खर्च में शामिल किया जाए। अगर बगैर अनुमति के चुनावी प्रक्रिया जारी रहने के दरम्यान इतना बड़ा आयोजन मतदाताओं को प्रभावित करने के दृष्टिकोण से किया गया है तो ये पूरी तरह से आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में आता है। इस पर चुनाव आयोग के द्वारा विधि-सम्मत कार्रवाई की जाए।

पढ़ें :- Jharkhand : निलंबित IAS पूजा सिंघल को नहीं मिली जमानत, अब 12 जुलाई को होगी सुनवाई
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...