1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Jharkhand : मोमेंटम झारखंड की CID जांच के आदेश, सीएम सोरेन का बीजेपी पर आरोप- 2017 में हुआ बड़ा घोटाला

Jharkhand : मोमेंटम झारखंड की CID जांच के आदेश, सीएम सोरेन का बीजेपी पर आरोप- 2017 में हुआ बड़ा घोटाला

सरकार ने 10 जून को हुई रांची हिंसा की जांच भी झारखंड CID की सौंप दी है। CID रांची के डेली मार्केट थाने में दर्ज मामले की जांच करेगी। ये मामला पुलिस फायरिंग से जुड़ा है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची, 25 जून। झारखंड में खनन लीज मामले में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की भूमिका फिलहाल सवालों में है। विपक्ष भी एक मौका नहीं छोड़ता सोरेन सरकार को मामले में घेरने को लेकर। वहीं अब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 2017 के ‘मोमेंटम झारखंड’ के दौरान कथित धांधली की CID जांच के आदेश दे दिए हैं। राज्य के उद्योग विभाग में ये फाइल डेढ़ साल से दबी पड़ी थी। बतादें कि मोमेंटम झारखंड का आयोजन बीजेपी के राज 2017 में हुआ था।

पढ़ें :- झारखंड: मुस्लिम ने अपना नाम बदलकर की हिन्दू नाबालिग से दोस्ती, फिर रेप; सच पता चलने पर की हत्या की कोशिश

100 करोड़ की गड़बड़ी का आरोप

आरोप है कि साल 2017 में झारखंड में निवेश को लेकर आयोजित ‘मोमेंटम झारखंड’ कार्यक्रम में शामिल हुईं कई कंपनियों का गठन आयोजन के ठीक पहले हुआ था। इन कंपनियों ने झारखंड में लाभ अर्जित करने के इरादे से सहमति पत्र (MOU) पर दस्तखत किए थे। इस निवेश सम्मेलन में कुल 238 MOU हुए थे। इनमें 100 करोड़ रुपये की गड़बड़ी का आरोप है।

पहले मामले की जांच ACB को दी गई थी

पहले इस मामले की जांच ACB को दी गई थी। अब झारखंड के उद्योग विभाग ने फाइल मुख्यमंत्री सोरेन को भेजी है और उद्योग मंत्री के तौर पर उनकी सहमति से फाइल गृह विभाग को भेज दी गई है। पहले मुख्यमंत्री सोरेन ने इस मामले की जांच स्पेशल ऑडिट ब्यूरो से कराने का आदेश दिया था। ACB के मामले में ही फाइल पर विमर्श होते-होते डेढ़ साल बीत गया। अब सोरेन सरकार ने तय किया है कि अब पहले CID से इसकी जांच कराई जाएगी।

पढ़ें :- Jharkhand : विधायकों से नकदी मिलने का मामला, CID ने एक भवन से बरामद किया 3 लाख रुपए से ज्यादा का कैश

JMM ने लगाया था सबसे बड़े घोटाले का आरोप

बतादें कि कुछ दिनों पहले JMM केंद्रीय समिति के सदस्य सुप्रियो भट्टाचार्य ने दावा किया था कि पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के कार्यकाल में 2017 में हुए मोमेंटम झारखंड में देश का सबसे बड़ा घोटाला हुआ था। उन्होंने RTI के माध्यम से मिली जानकारी के हवाले से खुलासा करते हुए बताया कि साल 2017 में हुए मोमेंटम झारखंड में 22 कंपनियों के साथ MOU हुए थे। उसमें से 11 कंपनियां मोमेंटम झारखंड के ठीक पहले बनाई गई थीं। उन्होंने आशंका जाहिर करते हुए कहा कि मोमेंटम झारखंड का लाभ लेने के उद्देश्य से ही उन कंपनियों को बनाया गया था।

CID को रांची हिंसा की जांच

उधर सरकार ने 10 जून को हुई रांची हिंसा की जांच भी झारखंड CID की सौंप दी है। CID रांची के डेली मार्केट थाने में दर्ज मामले की जांच करेगी। ये मामला पुलिस फायरिंग से जुड़ा है। झारखंड पुलिस के मुताबिक एनएचआरसी के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए मामले को सीआईडी को स्थानांतरित कर दिया गया है।

पढ़ें :- Jharkhand : झारखंड विधानसभा सत्र में गूंजा कांग्रेसी विधायकों का मुद्दा, सरयू ने कहा- सीएम सोरेन करें मामला स्पष्ट
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...