1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Jharkhand : ऊफान पर झारखंड की सियासत, निशिकांत का दावा- मिथिलेश ठाकुर की विधायकी पर लटकी चुनाव आयोग की तलवार

Jharkhand : ऊफान पर झारखंड की सियासत, निशिकांत का दावा- मिथिलेश ठाकुर की विधायकी पर लटकी चुनाव आयोग की तलवार

बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने बुधवार को ट्वीट के जरिए दावा किया है कि केंद्रीय चुनाव आयोग राज्य के मंत्री मिथिलेश ठाकुर को उनकी विधानसभा की सदस्यता समाप्त होने का नोटिस भेज रही है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची, 8 जून। बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने बुधवार को ट्वीट के जरिए दावा किया है कि केंद्रीय चुनाव आयोग राज्य के मंत्री मिथिलेश ठाकुर को उनकी विधानसभा की सदस्यता समाप्त होने का नोटिस भेज रही है।

पढ़ें :- झारखंड: मुस्लिम ने अपना नाम बदलकर की हिन्दू नाबालिग से दोस्ती, फिर रेप; सच पता चलने पर की हत्या की कोशिश

ट्वीट कर उन्होंने लिखा, ‘झारखंड के मंत्री मिथलेश ठाकुर ने ठेकेदारी की बात चुनाव आयोग को नहीं बताई। अब उनकी सदस्यता समाप्ति का नोटिस केन्द्रीय चुनाव आयोग भेज रहा है। पहले गलत रिपोर्ट देने के कारण झारखंड के प्रशासनिक अधिकारी पर भी कार्रवाई हो सकती है।’

पढ़ें :- Jharkhand : विधायकों से नकदी मिलने का मामला, CID ने एक भवन से बरामद किया 3 लाख रुपए से ज्यादा का कैश

इससे पहले 22 मई को बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने कहा था कि चुनाव आयोग ने मिथिलेश ठाकुर की सदस्यता खत्म करने के लिए नोटिस भेजने की तैयारी कर ली है। भारत निर्वाचन आयोग लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 के उल्लंघन मामले में पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथलेश ठाकुर को नोटिस भेज सकता है। बताया जा रहा है कि आयोग गढ़वा डीसी द्वारा भेजी गई रिपोर्ट से संतुष्ट नहीं है।

RTI कार्यकर्ता सुनील महतो ने चुनाव आयोग से की थी शिकायत

गौरतलब है कि RTI कार्यकर्ता सुनील महतो ने चुनाव आयोग से मिथिलेश ठाकुर के खिलाफ विधानसभा चुनाव के दौरान भरे गये फॉर्म-26 में चाईबासा के सत्यम बिल्डर्स का पार्टनर होने से संबंधित शिकायत की थी। उन्होंने कहा था कि ये कंपनी सरकारी ठेका लेने का काम करती है। विधानसभा चुनाव के दौरान उनकी राज्य सरकार के साथ की गई कई संविदाएं अस्तित्व में थीं। सुनील महतो ने इसे लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 9ए का उल्लंघन मानते हुए मिथिलेश ठाकुर की विधायकी खत्म करने की मांग की थी।

मिथलेश ठाकुर का दावा- सही जानकारी दी

वहीं मंत्री मिथलेश ठाकुर कई बार कह चुके हैं कि विधानसभा चुनाव में उन्होंने अपने बारे में सभी सही जानकारियां भरी हैं। उसे लेकर शपथ पत्र भी दाखिल किया है। उन्होंने कहा है कि अगर उन्होंने फार्म या शपथपत्र पत्र गलत भरा है तो भारत निर्वाचन आयोग उनके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई करे।

पढ़ें :- Jharkhand : झारखंड विधानसभा सत्र में गूंजा कांग्रेसी विधायकों का मुद्दा, सरयू ने कहा- सीएम सोरेन करें मामला स्पष्ट

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...