1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Money Laundering Case : सांसद निशिकांत दुबे के ट्वीट ने बढ़ाई कई लोगों की परेशानी, ED के निशाने पर पिंटू श्रीवास्तव और पंकज मिश्रा

Money Laundering Case : सांसद निशिकांत दुबे के ट्वीट ने बढ़ाई कई लोगों की परेशानी, ED के निशाने पर पिंटू श्रीवास्तव और पंकज मिश्रा

निलंबित IAS पूजा सिंघल के खिलाफ संताल क्षेत्र में ED ने ग्राउंड से पूरे मामले को करीब से देखा और इसके बाद बड़हरवा केस को टेकओवर करते हुए मनी लांड्रिंग मामले में केस दर्ज किया। बतादें कि झारखंड के साहिबगंज में फेरी जहाज हादसा सहित संताल परगना के करीब 12 मामलों पर ED की नजर है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची, 4 जून। झारखंड में शेल कंपनियों, मनरेगा और माइनिंग घोटालों की जांच की आंच अब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के करीबियों तक पहुंच गई है। ED का शिकंजा जैसे-जैसे कसता जा रहा है, नए-नए चेहने सामने आते जा रहे हैं। प्रेम प्रकाश, कई जिलों के DMO और DTO से पूछताछ में कई अहम जानकारियां ED को मिल चुकी है। जानकारी के मुताबिक ईडी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के प्रेस सलाहकार पिंटू श्रीवास्तव और विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा से पूछताछ कर सकती है। ED ने पूछताछ की तैयारी शुरू कर दी है। पूछताछ के लिए ED की एक टीम साहेबगंज पहुंच चुकी है।

पढ़ें :- Money Laundering Case : 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए सत्येन्द्र जैन, जमानत याचिका पर 14 जून को सुनवाई

वहीं गोड्‌डा से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे के ट्वीट कई लोगों की परेशानी बढ़ा रहे हैं। ED की कार्रवाई को लेकर निशिकांत दुबे के लगातार ट्वीट चर्चा का विषय बने हुए हैं। दुबे ने ट्वीट कर कहा कि ‘अब बारी झारखंड के मुख्यमंत्री जी के विभीषण और परम सलाहकार जिनके अंदर-बाहर दोनों दरबारी बिखर गए। वैसे परम ज्ञानी पिंटू श्रीवास्तव की है, जल्द ही माइनिंग लीज धौंस से लेने के खुशी में केंद्रीय एजेंसियों के सामने होंगे। ऐसे में माना जा रहा है कि ED जल्द पंकज मिश्रा और पंटू श्रीवास्तव से पूछताछ कर सकती है।

पढ़ें :- Money Laundering Cases : 9 दिन की ED हिरासत में सत्येंद्र जैन, केजरीवाल ने कहा- जैन को फंसाया जा रहा है, तो बीजेपी ने मांगा केजरीवाल का इस्तीफा

मनी लांड्रिंग मामले में ED को मिली अहम जानकारियां

वहीं बतादें कि आय से अधिक संपत्ति मामले में गिरफ्तार IAS पूजा सिंघल के खिलाफ चल रहे मनी लांड्रिंग अनुसंधान में भी ED को कई अहम जानकारियां हाथ लगी हैं। इस दौरान आधा दर्जन से अधिक जिलों के जिला खनन पदाधिकारियों, राजनेताओं और नौकरशाहों के करीबी प्रेम प्रकाश, विशाल चौधरी, निशांत केशरी के ठिकानों पर छापेमारी और उनसे पूछताछ में ईडी को कई अहम जानकारियां मिली हैं। ED सूत्रों की मानें तो संताल क्षेत्र में अवैध पत्थर खनन और परिवहन मामले में भी वहां के प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा कुछ दबंग और पत्थर माफिया की सक्रियता की भी जानकारी मिली है। कालाधन का शेल कंपनियों और रिश्तेदारों के जरिए निवेश करने की भी बात सामने आ चुकी है।

ED ने बड़हरवा के टेंडर विवाद में दर्ज केस को टेकओवर किया

गौरतलब है कि ED ने साहिबगंज के बड़हरवा में जून-2020 के टेंडर विवाद में दर्ज केस को टेकओवर कर लिया है। ED ने इसमें मनी लांड्रिंग के तहत केस दर्ज किया है, जिसमें मुख्यमंत्री के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा सहित कई को आरोपी बनाया गया है। जांच की आंच मंत्री आलमगीर आलम तक पहुंचने की संभावना है, क्योंकि दर्ज केस में पंकज मिश्रा और अंकित है। बतादें कि बड़हरवा का केस शंभू नंदन कुमार उर्फ शंभू भगत ने दर्ज कराया था। उन्होंने टेंडर विवाद के एक मामले में बड़हरवा थाने में मंत्री आलमीर आलम और पंकज मिश्रा के इशारे पर मारपीट किए जाने की FIR दर्ज कराई थी। लेकिन दोनों ही आरोपियों को साहिबगंज पुलिस ने क्लीन चिट दे दी थी। शंभू भगत ने ईडी को बताया था कि मंत्री आलमगीर आलम के भाई की कंपनी भी नगर पंचायत बड़हरवा में वाहन प्रवेश शुल्क वसूली के टेंडर में शामिल थी। उस कंपनी ने एक डमी कंपनी खड़ी कराकर 5 करोड़ रुपये तक की बोली लगवा दी थी। बाद में पैसा जमा नहीं कराने पर दूसरी बोली एक करोड़ 46 लाख में आलम की कंपनी ठेका ले लेती। शंभू ने ये भी बताया था कि इसकी भनक उन्हें थी, इसलिए उन्होंने उस ठेके को 1.80 करोड़ में ले लिया।

ED की करोड़ों के लेनदेन पर नजर

बड़हरवा टेंडर विवाद के बाद शंभू भगत से करोड़ों के लेन-देन की सूचना मिलने के बाद ED की भी इस केस पर नजर थी। निलंबित IAS पूजा सिंघल के खिलाफ संताल क्षेत्र में ED ने ग्राउंड से पूरे मामले को करीब से देखा और इसके बाद बड़हरवा केस को टेकओवर करते हुए मनी लांड्रिंग मामले में केस दर्ज किया। बतादें कि झारखंड के साहिबगंज में फेरी जहाज हादसा सहित संताल परगना के करीब 12 मामलों पर ED की नजर है। इन सभी मामलों में ED की आंतरिक जांच चल रही है। जिला खनन पदाधिकारियों से पूछताछ में भी ED को अवैध खनन, अवैध परिवहन के कई सबूत मिले हैं, जिसके तहत पूरे मामले की जांच जारी है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...