1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. मुलायम सिंह यादव की जीवनी,जनता प्यार से बुलाती थी नेता जी

मुलायम सिंह यादव की जीवनी,जनता प्यार से बुलाती थी नेता जी

राजनीति में एंट्री करने से पहले मुलायम कुश्ती लड़ते थे. एग्जाम छोड़कर कुश्ती लड़ने चले जाते थे. 1960 में जब मुलायम कॉलेज में पढ़ते थे, तब कवि सम्मेलन के मंच पर दरोगा को एक युवा ने चित कर दिया.

By Ruchi Kumari 
Updated Date

मुलायम सिंह यादव का जन्म 22 नवम्बर 1939 को इटावा जिले के सैफई गाँव में मूर्ती देवी व सुघर सिंह के किसान परिवार में हुआ था. मुलायम सिंह अपने पाँच भाई-बहनों में रतनसिंह से छोटे व अभयराम सिंह, शिवपाल सिंह यादव, रामगोपाल सिंह यादव और कमला देवी से बड़े हैं. धरती पुत्र’ उपनाम से मशहूर थे मुलायम सिंह यादव .मुलायम सिंह ने आगरा यूनिवर्सिटी से एमए और जैन इंटर कॉलेज मैनपुरी से बीटी की पढ़ाई की। उन्होंने अपना पढाई राजनीतिक विज्ञान में एमए के साथ की। इसके बाद वे अध्यापक बनें.

पढ़ें :- ED की अमेठी में बड़ी कार्रवाई,पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति व उनके परिवार की 5 करोड़ की संपत्तियों को कब्जे में लिया

मुलायम सिंह यादव ने 4 अक्टूबर 1992 को लखनऊ में समाजवादी पार्टी बनाने की घोषणा की थी. मुलायम सपा के अध्यक्ष, जनेश्वर मिश्र उपाध्यक्ष, कपिल देव सिंह और मोहम्मद आजम खान पार्टी के महामंत्री बने. मोहन सिंह को प्रवक्ता नियुक्त किया गया. इस ऐलान के एक महीने बाद यानी 4 और 5 नवंबर को बेगम हजरत महल पार्क में उन्होंने पार्टी का पहला राष्ट्रीय अधिवेशन आयोजित किया।. इसके बाद नेताजी की पार्टी ने उत्तर प्रदेश की राजनीति में स्थायी मुकाम बना लिया.

मुलायम सिंह यादव समाजवादी पार्टी के अगुआ और पार्टी संस्थापक थे. अपने राजनीतिक करियर में वह तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रहे. राजनीति में परिवारवाद को बढ़ावा देने की शुरुआत वैसे तो पं. जवाहरलाल नेहरू ने ही कर दी थी पर लोहिया के चेले कहे जाने वाले मुलायम सिंह ने इसे खूब आगे बढ़ाया. पिछले कुछ वर्षों में जब भी देश में तीसरे मोर्चे की चर्चा होती है, मुलायम सिंह यादव का नाम सबसे पहले लिया जाता था. पेशे से शिक्षक रहे मुलायम सिंह यादव के लिए शिक्षा के क्षेत्र ने राजनीतिक द्वार भी खोले.

1992में उन्होंने समाजवादी पार्टी बनाई. वे तीन बार क्रमशः 5 दिसम्बर 1989 से 24 जनवरी 1991 तक, 5 दिसम्बर 1993 से 3 जून 1996 तक और 29 अगस्त 2003 से 11 मई 2007 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे. इसके अतिरिक्त वे केन्द्र सरकार में रक्षा मन्त्री भी रह चुके थे, उत्तर प्रदेश में यादव समाज के सबसे बड़े नेता के रूप मे मुलायम सिंह की पहचान थी उत्तर प्रदेश मे सामाजिक सद्भाव को बनाए रखने में मुलायम सिंह ने साहसिक योगदान था, मुलायम सिंह की पहचान एक धर्म निरपेश नेता की थी. उत्तर प्रदेश की जनता मुलायम सिंह को प्यार से नेता जी कहती थी.

2012 मे मुलायम सिंहकी पार्टी समाजवादी पार्टी को उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनाव मे बहुमत मिला. उत्तर प्रदेश की जनता ने नेता जी के विकास कार्यो से प्रभावित होकर उनको सरकार बनाने का जनमत दिया.लोकप्रिया नेता जी ने समाजवादी पार्टी के दूसरे लोकप्रिय नेता अखिलेश यादव को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया.अखिलेश यादव मुलायम सिंह के पुत्र है. अखिलेश यादव ने नेता जी के बताए गये रास्ते पर चलते हुए उत्तर प्रदेश को विकास के पथ पर आगे बढ़ाया.

पढ़ें :- बुर्का पहनकर डांस करने पर कर्नाटक के इंजीनियरिंग कॉलेज के चार छात्रों को किया गया सस्पेंड - देखें वीडियो

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...