1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Nupur Sharma Case : नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, 10 अगस्त तक गिरफ्तारी पर रोक

Nupur Sharma Case : नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, 10 अगस्त तक गिरफ्तारी पर रोक

नई याचिका में नूपुर शर्मा ने अपनी गिरफ्तारी पर रोक की मांग की है। नूपुर शर्मा ने कहा है कि इससे पहले मेरी मांग को ठुकराते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कड़ी टिप्पणी की। मेरे जीवन को और अधिक खतरा बढ़ गया है। रेप और हत्या की धमकी मिल रही है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 19 जुलाई। सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी से निलंबित नेता नूपुर शर्मा को बड़ी राहत मिली है। पैगम्बर मोहम्मद पर टिप्पणी मामले में 8 राज्यों में दर्ज FIR दिल्ली में ट्रांसफर करने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने सम्बन्धित राज्यों और केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया है। जस्टिस सूर्यकांत की अध्यक्षता वाली बेंच ने माना कि नूपुर की जान को काफी खतरा है। मामले की अगली सुनवाई 10 अगस्त को होगी और तब तक नूपुर की गिरफ्तारी पर रोक रहेगी।

पढ़ें :- Jharkhand Mining Lease Case : माइनिंग लीज व शेल कंपनी मामले में सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट तैयार, 4 अगस्त को होगी सुनवाई

नूपुर के लिए हर राज्य के कोर्ट में जाना संभव नहीं

सुनवाई के दौरान नूपुर शर्मा की ओर से वकील मनिंदर सिंह ने कहा कि कई नई घटनाएं हुई हैं। पाकिस्तान से साज़िश की बात हो रही है। पटना में कुछ लोग पकड़े गए हैं, जो नूपुर की हत्या की साजिश रच रहे थे। नूपुर के लिए हर राज्य के कोर्ट में जाना संभव नहीं होगा। तब जस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि क्या यह बातें हाल में हुई हैं। तब मनिंदर सिंह ने कहा कि जी हां, खतरा और बढ़ गया है।

नूपुर शर्मा के वकील की कोर्ट में दलीलें

कोर्ट ने कहा कि हमारा ये उद्देश्य नहीं था कि आपको हर कोर्ट में जाना पड़े। हम आदेश में कुछ बदलाव करेंगे। तब मनिंदर सिंह ने कहा कि ये उचित होगा। अब पश्चिम बंगाल में 4-5 FIR दर्ज हो गई हैं। तब कोर्ट ने कहा कि ये ठीक है, लेकिन आप अपनी पसंद की जगह चाहते हैं। मनिंदर सिंह ने कहा कि दिल्ली में पहला केस दर्ज हुआ था। तब कोर्ट ने कहा कि हमने केस रद्द कराने के लिए हाईकोर्ट जाने की बात कही थी। अब आप बता रहे हैं कि ये संभव नहीं होगा। तो आप दिल्ली हाईकोर्ट जाना चाहेंगे। तब मनिंदर ने कहा कि गिरफ्तारी पर भी रोक लगनी चाहिए। मनिंदर सिंह ने अर्नब गोस्वामी और टी टी एंटनी केस के फैसले को उद्धृत किया। कोर्ट ने कहा कि हमने आपको वैकल्पिक कानूनी रास्ते अपनाने को कहा था लेकिन हमारी चिंता ये है कि आप उसका इस्तेमाल करने की स्थिति में नहीं हैं। हम इसका समाधान करेंगे।

पढ़ें :- Supreme Court : खाद्य सुरक्षा कानून के बाद भी लोगों का भूख से मरना चिंता का विषय, SC ने कहा देश में दो व्यक्ति महत्वपूर्ण- पहला किसान, दूसरा प्रवासी मजदूर

वहीं नई याचिका में नूपुर शर्मा ने अपनी गिरफ्तारी पर रोक की मांग की है। नूपुर शर्मा ने कहा है कि इससे पहले मेरी मांग को ठुकराते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कड़ी टिप्पणी की। मेरे जीवन को और अधिक खतरा बढ़ गया है। रेप और हत्या की धमकी मिल रही है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...