1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. पीएम मोदी ने कहा पिछली सरकार के दौरान गरीबों का राशन माफिया के पास जाता था

पीएम मोदी ने कहा पिछली सरकार के दौरान गरीबों का राशन माफिया के पास जाता था

प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण के लिए कौशांबी में जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि दुकान के सामने कब राशन बांटने की तारीख लिखी गई, कब राशन खत्म हो गया, ये गरीब को पता ही नहीं चलता था।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

कौशांबी : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को भ्रष्टाचार को लेकर समाजवादी पार्टी (सपा) पर निशाना साधते हुये कहा कि पहले की सरकारों में राशन की दुकानों से गरीब के लिए भेजा गया अनाज, राशन माफिया के पास पहुंच जाता था। उन्होंने कहा कि हम दिन-रात गरीबों की समस्याओं के समाधान के लिए मेहनत कर रहे हैं। इसी क्रम में हमने ‘एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड’ की शुरुआत की है।

पढ़ें :- UttarPradesh : बुलडोजर कार्रवाई पर रोक से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, अगली सुनवाई होगी 10 अगस्त

प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण के लिए कौशांबी में जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि दुकान के सामने कब राशन बांटने की तारीख लिखी गई, कब राशन खत्म हो गया, ये गरीब को पता ही नहीं चलता था। उन्होंने कहा कि घोर परिवारवादियों के ये दलाल, गरीब का राशन भी लूट लेते थे। यहां तक की उनके मंत्री, सांसद, विधायक तक इस खेल में शामिल रहते थे। भाजपा सरकार ने घोर परिवारवादियों के इन सारे खेलों का भी समाप्त कर दिया है।

केंद्र सरकार की बन नेशन बन कार्ड का जिक्र करते हुये प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले एक जगह का राशन कार्ड होल्डर दूसरी जगह राशन नहीं ले सकता था। इसलिए भाजपा सरकार ने राशन कार्ड को पोर्टेबल बनाया, ये सुविधा गरीब को दी कि वो किसी भी राशन की दुकान से अनाज ले सके। और अब तो हम वन नेशन-वन राशन कार्ड की सुविधा ले आए हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश में चौथे चरण का मतदान हो रहा है। उप्र की जनता, भाजपा की जीत का चौका मारने के लिए, एनडीए की जीत का चौका मारने के लिए आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि कौशांबी महाभारत, रामायण, पुराणों तक में प्रसिद्ध नगरी है। लेकिन घोर परिवारवादियों के राज में कौशांबी को विकास के लिए तरसा दिया गया। ये हमारी डबल इंजन की सरकार है, जो पूरी ईमानदारी से कौशांबी के विकास में जुटी है।

प्रधानमंभी ने अपना दल के संस्थापक सोनेलाल पटेल को याद करते हुये कहा कि जब मैं यहां आ रहा था तो मुझे अपने मित्र स्वर्गीय सोनेलाल पटेल जी की भी याद आ रही थी। उन्होंने अपना पूरा जीवन गरीब, शोषित, पिछड़े, दलित वर्ग के कल्याण में लगा दिया।

पढ़ें :- उत्तर प्रदेश में धार्मिक स्थलों से उतारे गए 53,942 लाउडस्पीकर

विपक्ष पर टीकाकरण को लेकर निशाना साधते हुये कहा कि कोरोना के इस काल में आपने कुछ मौसमी नेताओं को भी देखा है। कोरोना आया तो गायब हो गये, कोरोना कंट्रोल हुआ तो फिर आ गए। चुनाव आया तो आ गये, चुनाव खत्म तो विदेश चले गए। उन्होंने कहा कि जब लोग महामारी में परेशान थे तो वो गायब थे। चुनाव आया तो घर से बाहर निकल आए। ये लोग यूपी की जनता को वैक्सीन लगवाने के खिलाफ भड़काते रहे। और जब अपनी बारी आई, तो चुपचाप वैक्सीन लगवा ली। ऐसे मौसमी नेताओं को यूपी की जनता पूरी तरह पहचान चुकी है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...