1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. दिल्ली: पालतू डॉग रखने पर रजिस्ट्रेशन कराना हुआ अनिवार्य, लापरवाही बरतने पर पढ़ सकता है भारी

दिल्ली: पालतू डॉग रखने पर रजिस्ट्रेशन कराना हुआ अनिवार्य, लापरवाही बरतने पर पढ़ सकता है भारी

दिल्ली-एनसीआर में कुत्ते के काटने की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए दिल्ली नगर निगम ने निवासियों से अपने पालतू जानवरों का पंजीकरण कराने का अनुरोध किया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

दिल्ली: आजकल कुत्तों के काटने की घटनाएँ Delhi/NCR मे बढ़ती ही जा रही है इसलिए इसको ध्यान मे रखते हुए, दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) ने राष्ट्रीय राजधानी के निवासियों से अपने पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन कराने का आग्रह किया है। इस मानदंड का पालन न करने पर गंभीर कार्रवाई हो सकती है। अगर इसमें लापरवाही बरती गई तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। दिल्ली नगर अधिनियम 1957 की धारा 399 के तहत सभी पालतू डॉग्स का नगर निगम में पंजीकरण करना अनिवार्य है। इस धारा के तहत पब्लिक प्लेस पर कुत्ते को पकड़ा जा सकता है।

पढ़ें :- Mundka Fire : NHRC ने दिल्ली के मुख्य सचिव को जारी किया नोटिस, पुलिस, MCD और DSIDC की भूमिका की भी होगी जांच

एमसीडी के पशु चिकित्सा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली नगर निगम अधिनियम में पालतू कुत्तों का नागरिक निकाय में पंजीकरण अनिवार्य है, लेकिन “निवासी अपने पालतू जानवरों का पंजीकरण कराने के लिए आगे आने से हिचक रहे हैं”।

दिल्ली म्यूनिसिपल डिपार्टमेंट ने कहा है कि हम नागरिकों से अपील करते हैं कि वे अपने पालतू डॉग का जल्द से जल्द पंजीकरण कराएं. अन्यथा अधिनियम के अनुसार उचित कार्रवाई की जा सकती है. बयान में कहा गया है कि इस प्रक्रिया का उद्देश्य पालतू डॉग्स के मालिकों का डाटाबेस तैयार करना है. पालतू जानवरों के मालिकों की सुविधा के लिए MCD डॉग के पंजीकरण के लिए ऑनलाइन सुविधा है, ताकि लोगों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो.

रजिस्ट्रेशन के लिए ये डॉक्यूमेंट्स जरूरी
MCD की ओर से ये भी बताया गया है कि रजिस्ट्रेशन के लिए लोगों को कौन से डॉक्यूमेंट्स जमा कराने होंगे. एमसीडी की ओर से बताया गया है कि पालतू डॉग मालिकों को एंटी रेबीज वैक्सीन का सर्टिफिकेट, अपने डॉग की एक फोटो, मूल निवासी प्रमाण पत्र और मालिक की पहचान के लिए ID की जरूरत होगी.

कुत्तों के हमले के कई केस सामने आए
पिछले कुछ दिनों में नोएडा, गाजियाबाद और दूसरे हिस्सों कुत्ते के काटने के मामले सामने आए हैं. लिहाजा गाजियाबाद के संजय नगर इलाके में भी 10 साल के बच्चे पर पिटबुल ने हमला करके उसे बुरी तरह घायल कर दिया. डॉक्टर्स को बच्चे के चेहरे पर करीब 150 से ज्यादा टांके लगाने पड़े थे.

गाजियाबाद से ही एक और मामला सामने आया था. यहां राज नगर एक्सटेंशन स्थित चार्ल्स कैसल सोसायटी की लिफ्ट में कुत्ते ने स्कूली बच्चे को काट लिया था. हैरान करने वाली बात ये है कि कुत्ते के काटने के बाद बच्चा दर्द से चिल्ला रहा था, लेकिन महिला चुपचाप खड़े होकर ये सब देख रही थी.

वहीं ग्रेटर नोएडा में जेपी अमन सोसाइटी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था, जिसमें एक युवक डॉग को लेकर लिफ्ट में जा रहा था. जब एक महिला ने उसे डॉग ले लिफ्ट में ले जाने से मना किया तो युवक गालियां देने लगा.

उधर, वहीं महाराष्ट्र में पनवेल के इंडियाबुल्स ग्रीन्स मरीगोल्ड सीएचएस में 28 अगस्त को एक पालतू जर्मन शेफर्ड ने Zomato के डिलिवरी बॉय पर हमला कर दिया. यह हमला उस वक्त हुआ, जब डिलिवरी बॉय लिफ्ट से बाहर निकल रहा था. इससे डिलिवरी बॉय के प्राइवेट पार्ट पर चोट लग गई थी.

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...