1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. यूपी में चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था : टॉर्च की रोशनी में हो रहा मरीजों का इलाज

यूपी में चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था : टॉर्च की रोशनी में हो रहा मरीजों का इलाज

बलिया के जिला अस्पताल का यह वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. इसमें महिला का जिला अस्पताल के डॉक्टर टॉर्च की रोशनी में जांच कर रहे हैं

By Ruchi Kumari 
Updated Date

उत्तर प्रदेश के बलिया जिला के अस्पताल में मरीजों का इलाज टॉच की रोशनी में हो रहा है.इस अस्पताल का यह वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. इस वीडियो में दिख रहा है कि किस तरह से एक महिला जो जिला अस्पताल में इलाज के लिए आई है, डॉक्टर उसकी जांच टॉर्च की रोशनी में कर रहे हैं.
इस वीडियो के वायरल होने के बाद जिला अस्पताल के प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर आर डी राम का बयान भी सामने आया है. उन्होंने अपने बयान में कहा कि शनिवार को बारिश की वजह से बिजली चली गई थी. अस्पताल में जनरेटर तो है लेकिन उसे चालू करने के लिए बैटरी की जरूरत होती है और बैटरी जनरेटर के पास नहीं रखा जाता है, क्योंकि यहां बैटरी के चोरी होने का खतरा रहता है. लिहाजा बैटरी को दूसरी जगह से जनरेटर तक लेकर आने में समय लग गया. जब तक बैटरी लगाया गया तब तक लाइट आ गई थी.

पढ़ें :- मायावती ने महंगाई को लेकर बीजेपी पर साधा निशाना, कहा:भाजपा सरकार में महंगाई, बेरोजगारी और गरीबी असली राजनीतिक मुद्दा नहीं रहा...

आपको बता दें कि बिजली ना होने की स्थिति में मरीजों का इलाज मोबाइल फोन के टॉर्च की रोशनी में करने का यह कोई पहला मामला नहीं है. कुछ दिन पहले ही झारखंड के हजारीबाग के कटकमसांडी प्रखंड के आराभुसाई पंचायत के ग्राम महूंगाय निवासी सागर कुमार यादव को वज्रपात का झटका लगा था. उनको ट्रामा सेंटर के इमरजेंसी वार्ड में लाया गया था और उनका ईसीजी मोबाइल फोन की टॉर्च की रोशनी में किया गया था. घटना का वीडियो वायरल होने के बाद इसको लेकर विवाद शुरू हो गया था. हजारीबाग जिला प्रशासन ने वायरल वीडियो के संबंध में जांच करने के लिए एक समिति का गठन किया था.

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...