1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. यूपी संग 5 अलग राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान ! जानें चुनाव आयोग की प्रेस वार्ता की अहम बातें…

यूपी संग 5 अलग राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान ! जानें चुनाव आयोग की प्रेस वार्ता की अहम बातें…

चुनाव आयोग ने कहा, "आर्टिकल 172-1 में साफ तौर पर कहा गया है कि हर विधानसभा अधिकतम 5 सालों तक वजूद में रहेगी। अतः समय पर चुनाव कराना आयोग की संवैधानिक जिम्मेदारी है।"

By Tejaswita Upadhyay 
Updated Date

Assembly Election 2022  updates: उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब सहित पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों का ऐलान हो गया है। चुनाव आयोग ने पांचों राज्यों में चुनाव की तारीखों के ऐलान के लिए आज दोपहर साढ़े 3 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी। बढ़ते कोविड केसों के बीच इन तारीखों का ऐलान हो रहा है, ऐसे में चुनाव आयोग ने कुछ सख्त नियमों की घोषणा भी की है।

पढ़ें :- Jharkhand : ऊफान पर झारखंड की सियासत, निशिकांत का दावा- मिथिलेश ठाकुर की विधायकी पर लटकी चुनाव आयोग की तलवार

लखनऊ 

कोरोना और ओमिक्रोन के खतरों के बीच तमाम एहतियातों के साथ इलेक्शन कमीशन ने विधानसभा चुनाव कराने का फैसला किया है। आयोग ने कहा, “आर्टिकल 172-1 में साफ तौर पर कहा गया है कि हर विधानसभा अधिकतम 5 सालों तक वजूद में रहेगी। अतः समय पर चुनाव कराना संवैधानिक जिम्मेदारी है।” कोरोना को देखते हुए चुनाव के लिए पोलिंग स्टेशनों की संख्या बढ़ाई गई है। साथ ही, हर बूथ पर मास्क और सैनिटाइजर भी उपलब्ध कराया जायेगा। सुरक्षित मतदान के लिए 900 पर्यवेक्षक निगरानी के लिए तैनात किए जाएंगे।

हर बूथ पर सिर्फ 1250 मतदाता ही वोट डाल सकेंगे

शनिवार को चुनाव आयोग ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि प्रदेश में पोलिंग स्टेशन में 16 फीसदी की बढ़ोत्तरी की गई है। कुल 2 लाख 15 हजार से ज्यादा पोलिंग बूथ बनाए जाएंगे। सभी बूथों पर कोरोना के नियमों का पालन किया जाएगा। हर बूथ पर सिर्फ 1250 मतदाता ही वोट डाल सकेंगे। सभी पोलिंग बूथ ग्राउंड फ्लोर पर ही बनाए जाएंगे। महिलाओं के लिए खास मतदान केंद्र बनाए जाएंगे। चुनाव में मतदान का समय भी एक घंटा बढ़ाया गया है।

पढ़ें :- Mine Lease Case : जवाब देने के लिए सीएम हेमंत सोरेन ने निर्वाचन आयोग से मांगा समय, बीमार मां की तबीयत का दिया हवाला

Know Your Candidate पर जानें अपने उम्मीदवारों के बारे में 

उम्मीदवारों को नामांकन ऑनलाइन दाखिल करने की वैकल्पिक सुविधा मिलेगी। आपराधिक पृष्ठभूमि वाले उम्मीदवारों को अखबारों, टीवी चैनलों पर प्रचार अभियान की अवधि के दौरान तीन बार अपने खिलाफ लंबित मुकदमों की जानकारी देनी होगी। राजनीतिक दलों को यह भी बताना होगा कि ऐसी पृष्ठभूमि वाले उम्मीदवार को उन्होंने क्यों चुना है। ऐसे उम्मीदवारों की जानकारी Know Your Candidate ऐप पर भी उपलब्ध होगी।

24.9 लाख वोटर पहली बार मत का प्रयोग करेंगे

बता दें कि बीते 5 जनवरी को चुनाव आयोग ने वोटर लिस्ट जारी की थी। इसके मुताबिक, इस बार मतदाताओं की संख्या में बढ़ोत्तरी हुयी है। आयोग के मुताबिक, इन पाँच राज्यों में फिलहाल 18.3 करोड़ मतदाता हैं। तकरीबन 24.9 लाख वोटर पहली बार मत का प्रयोग करेंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि इस बार महिला वोटरों की भागीदारी बढ़ी है।

7 चरणों में होंगे उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव

पढ़ें :- Jharkhand : CM हेमंत सोरेन के भाई बसंत सोरेन को भी चुनाव आयोग का नोटिस, निशिकांत दूबे के ट्वीट पर सियासी संग्राम

फेज 1 : 10 फरवरी

फेज 2 : 14 फरवरी

फेज 3 : 20 फरवरी

फेज 4 : 23 फरवरी

फेज 5 : 27 फरवरी

फेज 6 : 3 मार्च

पढ़ें :- Jharkhand : संकट में सीएम हेमंत सोरेन, चुनाव आयोग पहुंचा खदान लीज आवंटन मामला, मुख्य सचिव से रिपोर्ट तलब

फेज 7 : 7 मार्च

परिणामों की घोषणा 10 मार्च को होगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...