1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Jharkhand : महाराष्ट्र के बाद झारखंड की सियासत में उबाल, झारखंड BJP नेता का बड़ा बयान- उद्धव तो गयो, तुम कब जाओगे?

Jharkhand : महाराष्ट्र के बाद झारखंड की सियासत में उबाल, झारखंड BJP नेता का बड़ा बयान- उद्धव तो गयो, तुम कब जाओगे?

झारखंड की 81 सदस्यीय विधानसभा में JMM के 30, कांग्रेस के 16 और बीजेपी के 25 विधायक हैं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची, 30 जून। महाराष्ट्र में चले सियासी उलटफेर के बीच अब झारखंड के पूर्व स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री और बीजेपी के विधायक भानु प्रताप शाही ने झारखंड सरकार पर बड़ा हमला बोला है। महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे के बुधवार को इस्‍तीफा देने के बाद भानु प्रताप शाही ने तंज कसते हुए सवालिया लहजे में ट्वीट कर पूछा- ”उद्धव तो गयो…अब तुम कब जाओगे”।

पढ़ें :- झारखंड: मुस्लिम ने अपना नाम बदलकर की हिन्दू नाबालिग से दोस्ती, फिर रेप; सच पता चलने पर की हत्या की कोशिश

गुरुवार को भानु प्रताप शाही ने एक और ट्वीट कर कांग्रेस को घेरते हुए कहा कि- ‘बस के पीछे पहले लिखा हुआ रहता था ” लटकले बेटा तो गईले बेटा ” अब कांग्रेस के साथ रहने वाले का भी वही हाल हो गया है’।

पढ़ें :- Jharkhand : विधायकों से नकदी मिलने का मामला, CID ने एक भवन से बरामद किया 3 लाख रुपए से ज्यादा का कैश

तो वहीं बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी ने भी कहा था कि जिस तरह के हालात महाराष्‍ट्र में बने हैं, ठीक उसी तरह से झारखंड में भी JMM-कांग्रेस-RJD गठबंधन सरकार की भी हालत हो सकती है।

CM सोरेन और अमित शाह की मुलाकात

पढ़ें :- Jharkhand : झारखंड विधानसभा सत्र में गूंजा कांग्रेसी विधायकों का मुद्दा, सरयू ने कहा- सीएम सोरेन करें मामला स्पष्ट

कुछ दिन पहले ही झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ मुलाकात की थी, जिसके बाद सियासी गलियारों में चर्चा और जोर पकड़ रही है।

असमंजस में द्रौपदी मुर्मू को लेकर JMM?

हालांकि सीएम सोरेन की अमित शाह के साथ मुलाकात ऐसे समय में हुई जब JMM इस बात को लेकर असमंजस में है कि क्या उसे बीजेपी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का समर्थन करना चाहिए या नहीं?। बतादें कि द्रौपदी मुर्मू झारखंड की राज्यपाल रह चुकी हैं। इस बीच राज्य में कांग्रेस के साथ उसके गठबंधन में दरार भी आ गई है। ख़बर ये भी है कि कांग्रेस के 16 विधायकों में से कई पार्टी छोड़कर बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। कांग्रेस के टूटने पर आजसू, NCP और निर्दलीय भी बीजेपी के पाले में जा सकते हैं।

देखें झारखंड में किस पार्टी के पास कितनी सीटें?

जानकारी के मुताबिक लंबित मामलों में झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन दोषी पाए जाते हैं तो बीजेपी झारखंड में भी मोर्चा मार सकती है। बतादें कि झारखंड में जेएमएम-कांग्रेस गठबंधन ने 2019 में आदिवासी बेल्ट में 28 में से 25 सीटें जीती थीं, जबकि बीजेपी 2 सीटों पर ही जीत हासिल कर पाई थी। झारखंड की 81 सदस्यीय विधानसभा में JMM के 30, कांग्रेस के 16 और बीजेपी के 25 विधायक हैं।

पढ़ें :- Jharkhand : विधानसभा का मानसून सत्र चढ़ा हंगामे की भेंट, राष्ट्रपति पर टिप्पणी मामले में BJP विधायकों का हंगामा, कहा- इस्तीफा दें अधीर रंजन चौधरी
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...