1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड STF की टीम ने 4 आतंकवादियों को किया गिरफ्तार

उत्तराखंड STF की टीम ने 4 आतंकवादियों को किया गिरफ्तार

गिरफ्तार आरोपितों में से तीन उधम सिंह नगर और एक आरोपित रामपुर जनपद का रहने वाला है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

Punjab Serial Bomb Blast : पंजाब के पठानकोट और लुधियाना में हुए बम ब्लास्ट के साजिशकर्ता सुखप्रीत सिंह उर्फ सुख को शरण देने के आरोपित चार लोगों को उत्तराखंड एसटीएफ ने पंतनगर से गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने एक आरोपित के पास से पिस्टल और फोर्ड फिगो कार बरामद की है। गिरफ्तार आरोपितों में से तीन उधम सिंह नगर और एक आरोपित रामपुर जनपद का रहने वाला है।

पढ़ें :- नैन्सी कॉन्वेंट कॉलेज में छात्राओं ने लगाया कॉलेज स्टाफ पर उत्पीड़न का आरोप, धरना-प्रदर्शन

उत्तराखंड STF को नवंबर में मिला था इनपुट 

एसएसपी बरिंदर जीत सिंह ने शनिवार को इस मामले का खुलासा करते हुए बताया कि उत्तराखंड एसटीएफ को नवंबर माह में पंजाब के पठानकोट, नवां शहर और लुधियाना में हुए बम ब्लास्ट की घटनाओं के साजिशकर्ता सुखप्रीत सिंह को उधम सिंह नगर में शरण दिए जाने संबंधी इनपुट मिले थे। इसके बाद एसटीएफ पिछले तीन माह से इस दिशा में कार्य कर रही थी।

सीसीटीवी फुटेज के विश्लेषण और गोपनीय जानकारी इकट्ठा करने के उपरांत एसटीएफ की विभिन्न टीमों ने 21 जनवरी को शमशेर सिंह शेरा, हरप्रीत सिंह हैप्पी, अजमेर सिंह मण्ड और गुरपाल सिंह ढिल्लों उर्फ गुरी को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार शमशेर, हरप्रीत और अजमेर उधम सिंह नगर के किला खेड़ा और बाजपुर थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं जबकि गुरपाल सिंह रामपुर जनपद के थाना स्वार का निवासी है। हालांकि गुरपाल इन दिनों बाजपुर में ही रह रहा था।

गिरफ्तार आरोपितों के पास से हथियार बरामद  

पढ़ें :- उत्तराखंड में भीषण हादसा, बारातियों से भरा वाहन गहरी खाई में गिरा,14 की मौत 2 घायल

एसएसपी ने बताया कि गिरफ्तार शमशेर सिंह के कब्जे से 32 बोर की पिस्टल के साथ फोर्ड फिगो कार भी बरामद की गई है। आरोपित इस कार का प्रयोग बम ब्लास्ट के आरोपित सुखप्रीत को अपने घर में शरण देने,उसे लाने और ले जाने के लिए करते थे।

चारों आरोपित इंटरनेट, व्हाट्सएप कॉल के माध्यम से कनाडा, आस्ट्रेलिया और सरबिया से जुड़े हुए थे। फरार आरोपित सुख खालसा टाइगर फोर्स से जुड़े अर्श से संपर्क में था और कनाडा में रहकर ही अर्श व्हाट्सएप कॉल द्वारा इन्हें संचालित करता था। अर्श का सीधा संबंध खालिस्तान टाइगर फोर्स (Khalistan Tiger Force KTF) से है। गिरफ्तार चारों संदिग्ध शरणदाता लगातार अर्श के संपर्क में थे।

महिला डिप्टी एसपी STF थीं टीम लीडर

एसएसपी सिंह ने बताया कि आतंकी सुखप्रीत को शरण देने, मदद देने और सुरक्षित स्थानों पर भेजने की व्यवस्था करने के आरोप में चारों अभियुक्तों के खिलाफ पंतनगर थाने में मुकदमा कायम किया गया है।

चारों से पूछताछ के दौरान मिली सूचना को विभिन्न राष्ट्रीय एजेंसियों और राज्य पुलिस को साझा कर दी गई है। इन आरोपितों को गिरफ्तार करने वाली एसटीएफ टीम में पुलिस उपाधीक्षक डॉ पूर्णिमा गर्ग, निरीक्षक एमपी सिंह, ललित मोहन जोशी, दिनेश पंत, विनोद चंद्र जोशी, केजी मठपाल, ब्रजभूषण, प्रकाश भगत, सत्येंद्र गंगोला आदि शामिल थे।

पढ़ें :- Uttarakhand : मतदान के लिए जारी हुआ नया गाइडलाइन, 12 दस्तावेज किये गए मान्य

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...