1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. राहुल गांधी के खिलाफ फर्जी वीडियो परोसने वालों पर करेंगे कानूनी कार्रवाई, कांग्रेस ने कहा- शराफत ‘हमारा गहना है, हमारी बेड़ियां नहीं’

राहुल गांधी के खिलाफ फर्जी वीडियो परोसने वालों पर करेंगे कानूनी कार्रवाई, कांग्रेस ने कहा- शराफत ‘हमारा गहना है, हमारी बेड़ियां नहीं’

पवन खेड़ा ने कहा कि 'आलू से सोना' वाले वाकये में भी ये पीएम मोदी के शब्द थे, जिसे राहुल गांधी जी दोहरा रहे थे। लेकिन बड़े ही सुनियोजित तरीके से उसका मतलब बदल दिया गया।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 03 जुलाई। कांग्रेस पार्टी ने अपने पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के एक बयान को गलत संदर्भ में पेश करने के मामले पर मीडिया और बीजेपी पर तल्खी दिखाई है। पार्टी प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि वो पूरे देश की मीडिया और खासतौर पर भारतीय जनता पार्टी को आगाह करते हैं कि कांग्रेस की शराफत ‘हमारा गहना है, हमारी बेड़ियां नहीं है।’

पढ़ें :- जनता के मुद्दे उठाने वाली हर आवाज को दबा रही मोदी सरकार : राहुल गांधी

पढ़ें :- Jharkhand : विधायकों से नकदी मिलने का मामला, CID ने एक भवन से बरामद किया 3 लाख रुपए से ज्यादा का कैश

पार्टी कार्यालय में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए पवन खेड़ा ने कहा कि आज के बाद अगर एक व्यक्ति भी हमारी पार्टी, हमारे नेता या हमारी विरासत के खिलाफ तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश करेगा, भ्रामक जानकारी देकर कांग्रेस या हमारे नेताओं की छवि धूमिल करने की कोशिश करेगा, तो ये उनको कई पीढ़ियों तक याद रखना पड़ेगा।

गौरतलब है कि एक टीवी चैनल ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के वायनाड में दिए एक बयान को गलत संदर्भ में पेश किया था। राहुल ने केरल में उनके कार्यालय में तोड़-फोड़ करने वालों के लिए अपनी बात रखी थी। लेकिन इसे उदयपुर महजबी उन्मादियों से जोड़ कर दिखाया गया। बाद में चैनल ने माफी भी मांगी है। राजस्थान में इसको लेकर केस दर्ज किया गया है। इसमें चैनल के प्रस्तुतकर्ता सहित बीजेपी प्रवक्ता राज्यवर्धन सिंह राठौर का नाम भी दर्ज किया गया है। उनके ट्वीटर हैंडल ने चैनल की विवादित सामग्री को पोस्ट किया था।

पढ़ें :- National Herald Case : नेशनल हेराल्ड मामले में ED की बड़ी छापेमारी, हेराल्ड हाउस सहित 12 स्थानों पर कार्रवाई

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि एक चैनल ने राहुल गांधी से संबंधित एक वीडियो को शातिराना तरीके से कांट-छांट कर उदयपुर हत्याकांड से जोड़कर दिखाया। इस फेक न्यूज को बीजेपी के कई नेताओं ने भी साझा किया। पवन खेड़ा ने आरोप लगाते हुए कहा कि ये पहला मौका नहीं है जब राहुल गांधी की छवि खराब करने के लिए बीजेपी ने ऐसा कोई काम किया है। ऐसे कई वीडियो हैं, जिनसे छेड़-छाड़ कर राहुल गांधी जी की छवि खराब करने की कोशिश की गई है।

पवन खेड़ा ने कहा कि पूरे मामले में टीवी चैनल से ज्यादा गैर जिम्मेदार चुने हुए प्रतिनिधि हैं, क्योंकि वो संवैधानिक शपथ के तहत आते हैं। कांग्रेस की ओर से आपत्ति दर्ज करवाने के बाद चैनल ने माफी तो मांग ली, लेकिन बीजेपी के नेता अभी भी राहुल गांधी की छवि खराब करने के लिए उस वीडियो का इस्तेमाल कर रहे हैं। जिन भूतपूर्व मंत्रियों और नेताओं ने इस वीडियो को अभी भी अपने सोशल मीडिया पर पोस्ट किया हुआ है, वो कांग्रेस की कानूनी कार्रवाई के लिए तैयार रहें।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...