1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. कपिल सिब्बल ने दिया कांग्रेस को झटका, सपा से किया राज्यसभा चुनाव का नामांकन

कपिल सिब्बल ने दिया कांग्रेस को झटका, सपा से किया राज्यसभा चुनाव का नामांकन

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने बुधवार लखनऊ में राज्यसभा के लिए सपा से अपना नामांकन भरा। कपिल सिब्बल के नामांकन के समय सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव व रामगोपाल यादव भी मौजूद थे।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 25 मई 2022। कांग्रेस के बड़े नेता माने जाने वाले कपिल सिब्बल ने पार्टी छोड़ दी है। आज उन्होंने सपा के समर्थन से राज्यसभा के लिए नामांकन किया। आपको बता दें कि कपिल सिब्बल कांग्रेस के हाईकमान राहुल पर कई सवाल उठा चुके हैं। नामाकंन के समय कपिल सिब्बल के साथ सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव व रामगोपाल यादव भी मौजूद रहे। अपना नामांकन करने के बाद सिब्बल ने बताया कि वह 16 मई को कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं।

पढ़ें :- Maa Kali : तृणमूल की महिला सांसद ने की मां काली पर विवादास्पद टिप्पणी, TMC ने महुआ मोइत्रा के बयान से किया किनारा

सिब्बल अभी यूपी से कांग्रेस के सांसद हैं, लेकिन यूपी में पार्टी के पास इतने विधायक नहीं है कि उन्हें दोबारा से राज्यसभा भेजा जा सके। इस बात को लेकर भी कई तरह के कयास लगाए जा रहे  थे, लेकिन अब कपिल सिब्बल ने सपा की तरफ से नामांकन दाखिल कर सभी तरह की अटकलों पर विराम लगा दिया है। वर्ष 2016 में सिब्बल को सपा के समर्थन पर कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में यूपी की ओर से राज्यसभा के लिए चुना गया था। इस बार उनके नामांकन से माना जा रहा है सपा को कपिल सिब्बल के रूप में एक बड़ा नेता और कानूनी सलाहकार भी मिल जाएगा।

यूपी में विधासभा सीटों के समझें

यूपी में विधानसभा में 403 सीटे हैं, जिसमें से दो खाली हैं। ऐसे में राज्यसभा जाने के लिए एक सीट पर 36 विधायकों का वोट चाहिए होगा। भाजपा गठबंधन के पास करीब 273 विधायक हैं, जिसके मुताबिक 7 सीटे उनको अपने पक्ष में करने में कोई परेशानी नहीं होगी। वहीं सपा के पास 125 विधायक हैं। इस तरह उसको 3 सीटे जीतने में किसी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना होगा। लेकिन राज्यसभा की 11वीं सीट के लिए सपा और भाजपा में बड़ी खिंचातान होगी।

फिलहाल अभी भाजपा ने भी अपने प्रत्याशियों के नाम घोषित नहीं किये हैं। यूपी में अभी जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के दो, बसपा का एक व कांग्रेस के दो विधायक हैं। जनसत्ता दल के विधायकों का समर्थन भाजपा, तो वहीं बसपा व कांग्रेस के विधायकों का वोट किसी भी प्रत्याशी के पक्ष में जा सकता है।

पढ़ें :- झारखंड के स्कूल में मुस्लिमों ने कहा स्कूल में हमारी संख्या 75 प्रतिशत, प्रार्थना सभा हमारे हिसाब से होगी, मामले को शिक्षा विभाग ने सुलझाया
अभी सपा के 5 सदस्य राज्यसभा में 
यूपी की सीटों के लिए कल से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। आपको बता दें कि अभी राज्यसभा में साप के 5 सदस्य हैं। जिसमें से तीन का कार्यकाल 4 जुलाई को समाप्त हो रहा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...