1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Bihar : पीएम मोदी ने देश को साल 2047 तक विश्व में नंबर एक बनाने का लक्ष्य रखा- अमित शाह

Bihar : पीएम मोदी ने देश को साल 2047 तक विश्व में नंबर एक बनाने का लक्ष्य रखा- अमित शाह

बाबू वीर कुंवर सिंह विजयोत्सव में एक साथ 78,000 तिरंगा लहराकर आज बिहार ने पाकिस्तान के 57 हजार झंडा फहराने का रिकॉर्ड तोड़कर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड के आंकड़े में नाम दर्ज करा लिया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

पटना, 23 अप्रैल। बिहार में आरा जिले के जगदीशपुर स्थित दुलौरा मैदान में बाबू वीर कुंवर सिंह विजयोत्सव समारोह में शनिवार को गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को साल 2047 तक दुनिया में नंबर वन बनाने का लक्ष्य रखा है।

पढ़ें :- अमित शाह सुरक्षा उल्लंघन: हैदराबाद में गृहमंत्री की सुरक्षा में सेंध, काफिले के बीच TRS नेता ने कार घुसाई

पढ़ें :- Bihar News: बिहार में गैंगरेप को लेकर जीतन राम मांझी ने दिया विवादित बयान,करोडो की आबादी में ऐसी घटनाएं होती रहती हैं

वीर कुंवर सिंह के नाम पर स्मारक बनाएगी भारत सरकार- शाह

अमित शाह ने विजयोत्सव के मौके पर वीर कुंवर के परिवार की चौथी पीढ़ी के सदस्य ब्रह्मानंद का सम्मान भी किया। उन्होंने कहा कि बाबू वीर कुंवर सिंह विजयोत्सव में एक साथ 78,000 तिरंगा लहराकर आज बिहार ने पाकिस्तान के 57 हजार झंडा फहराने का रिकॉर्ड तोड़कर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड के आंकड़े में नाम दर्ज करा लिया है। अमित शाह ने बाबू वीर कुंवर सिंह को श्रद्धाजंलि देते हुए कहा कि बाबू वीर कुंवर सिंह देशभक्ति, वीरता और सामाजिक समरसता के अद्वितीय प्रतीक थे। उन्होंने ऐलान किया कि भारत सरकार वीर कुंवर सिंह के नाम पर स्मारक बनाएगी। साथ ही कहा कि इतिहास ने बाबू कुंवर सिंह के साथ अन्याय किया। उनकी वीरता के अनुरूप उन्हें जगह नहीं दी गई।

साहस कुंवर सिंह ने विजय का झंडा फहराया- शाह

अमित शाह ने कहा कि आज बिहार की जनता पलक पांवड़े बिछाकर उनका नाम एक बार फिर से अमर कर रही है। 80 साल की उम्र के कुंवर सिंह जी ने इस क्षेत्र को अंग्रेजों से मुक्ति दिलाई। आजादी के पहले संग्राम को इतिहासकारों ने विफल विद्रोह कहकर बदनाम करने का काम किया। वीर सावरकर ने स्वतंत्रता संग्राम कहकर सम्मानित करने का काम किया। शाह ने कहा कि बाबू कुंवर सिंह के हाथ में गोली लग गई। उन्होंने अपने ही हाथ से अपना दूसरा हाथ काट लिया। ऐसे साहस कुंवर सिंह के अलावा किसी में नहीं हो सकता। वीर कुंवर सिंह ऐसे अकेले थें, जिन्होंने 80 साल के होने के बावजूद आरा-सासाराम से लेकर अयोध्या से बलिया होते हुए विजय का झंडा फहराया। चार दिन तक खून बहने के बावजूद भी उस वीर व्यक्ति का प्राण नहीं गया। जगदीशपुर में आजादी का झंडा फहराने के बाद वो शहीद हुए। अमित शाह ने कहा कि मैं जब यहां पहुंचने वाला था तो हेलीकॉप्टर से नजारा देखता आया हूं। चारों तरफ सिर ही सिर और तिरंगा ही तिरंगा दिखाई दिया। कश्मीर से कन्याकुमारी तक भारत माता की जय” की आवाज जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि ये क्षेत्र विश्वामित्र की जन्मभूमि है। यहीं ताड़का वध प्रभु श्रीराम ने किया था। यहीं से मिथिला जाने की उन्हें प्रेरणा मिली। यहां वशिष्ठ नारायण की जन्मभूमि रही।

गोपाल नारायण विश्वविद्यालय में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए गृहमंत्री

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आरा के बाद रोहतास में गोपाल नारायण सिंह विश्वविद्यालय जमुहार के पहले दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए । राज्यपाल फागू चौहान बतौर विशिष्ट गेस्ट शामिल रहे। इस मौके पर उन्होंने कहा कि ये भूमि बहुत ही ऊर्जावान है। इस भूमि से पूरे आर्यावर्त पर 1100 साल तक शासन चला। मैं इतिहास का छात्र हूं। इसी भूमि पर गायत्री मंत्र का महर्षि विश्वामित्र ने खोज की थी। इसी जगह पर महर्षि विश्वामित्र का जन्म हुआ। ये भगवान महावीर आचार्य चाणक्य और चंद्रगुप्त की भूमि है। पूरी दुनिया के शिक्षा का केंद्र नालंदा विश्वविद्यालय यहीं पर था। तक्षशिला विश्वविद्यालय भले ही वर्तमान पाकिस्तान में था, लेकिन उसका नियंत्रण यही से होता था। गोपाल नारायण सिंह विश्वविद्यालय का संक्षिप्त परिचय देते हुए गृहमंत्री ने कहा कि एक ही छत के नीचे इस विश्वविद्यालय में डॉक्टरी, नर्सिंग, पत्रकारिता सहित कई अन्य विषयों का पढ़ाई होती है, जो अपने आप में अनूठा है।

पढ़ें :- Chandigarh : नशे के खिलाफ जल्द बनेंगे कठोर कानून, अमित शाह ने कहा- अमृतसर में आधुनिक फॉरेंसिक लैब की होगी स्थापना
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...