Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. लोकसभा चुनाव-2024: समान नागरिक संहिता के साथ मैदान में उतरेगी भाजपा, पसमांदा मुस्लिम और ट्रिपल तलाक के मुद्दे भी बनेंगे चुनावी हथियार    

लोकसभा चुनाव-2024: समान नागरिक संहिता के साथ मैदान में उतरेगी भाजपा, पसमांदा मुस्लिम और ट्रिपल तलाक के मुद्दे भी बनेंगे चुनावी हथियार    

आगामी लोकसभा चुनाव में मुस्लिम महिलाओं के वोट हासिल करने के लिए भाजपा एक बार फिर ट्रिपल तलाक के मुद्दे को हवा देगी।

By Rajni 

Updated Date

नई दिल्ली। आगामी लोकसभा चुनाव में मुस्लिम महिलाओं के वोट हासिल करने के लिए भाजपा एक बार फिर ट्रिपल तलाक के मुद्दे को हवा देगी। पार्टी मुस्लिम महिलाओं के बीच जाकर बताएगी कि मोदी सरकार की ओर से ट्रिपल तलाक को समाप्त करने से मुस्लिम महिलाओं को अन्याय से मुक्ति मिली है।

पढ़ें :- कन्नौज में भाजपाइयों ने संजू कटियार का किया भव्य स्वागत

पार्टी के जानकारों का मानना है कि ट्रिपल तलाक समाप्त करने से मुस्लिम महिलाओं के वोट भाजपा को मिले हैं। इस मुद्दे को धार देने से आगामी लोकसभा चुनाव में पार्टी को फायदा होगा। इसके अलावा लोकसभा चुनाव 2024 में देश में समान नागरिक संहिता लागू करना और विकास की मुख्य धारा से दूर रहे पसमांदा मुस्लिम समुदाय को बराबरी का हक दिलाना भी भाजपा का मुख्य चुनावी हथियार बनेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यकर्ताओं को सौंपा एजेंडा

मंगलवार को भोपाल में ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ संवाद कार्यक्रम में पार्टी के अल्पकालिक विस्तारकों को चुनाव मैदान में उतारते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 लाख बूथों पर तीन करोड़ कार्यकर्ताओं को समान नागरिक संहिता लागू करने के लिए जमीन तैयार करने का एजेंडा सौंपा।

भाजपा के राष्ट्रवाद के एजेंडे में अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर राम मंदिर निर्माण, जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 की समाप्ति और समान नागरिक संहिता तीन बड़े मुद्दे रहे हैं। मोदी 2.0 सरकार ने 5 अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 की समाप्ति की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 अगस्त 2020 को अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए शिलापूजन किया।

पढ़ें :- मिर्जापुर में प्रशासन ने नियम का हवाला देते हुए नहीं खोलने दिया सपा का कार्यालय, चुनाव आयोग से शिकायत

आरएसएस और भाजपा के तीन मुख्य एजेंडे में अब समान नागरिक संहिता ही बचा है। जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे समान नागरिक संहिता लागू करने का मुद्दा गरमाता जा रहा है।

मंगलवार को पीएम मोदी ने मेरा बूथ सबसे मजबूत संवाद में 16 हजार संगठनात्मक मंडलों, दस लाख बूथों पर तीन करोड़ कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए समान नागरिक संहिता पर अपना रूख साफ कर दिया। मोदी ने संविधान में दी गई व्यवस्था और सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का हवाला देते हुए कहा कि देश दोहरी व्यवस्था में कैसे चल सकता है।

मोदी ने पार्टी के कार्यकर्ताओं को समान नागरिक संहिता को लेकर विपक्षी दलों की ओर से मुसलमानों में फैलाए जा रहे भ्रम को दूर करने का एजेंडा भी सौंपा।
राजनीतिक जानकारों का कहना है कि एक ओर जहां सभी विपक्षी दल भाजपा के दलित और पिछड़े वोट बैंक में सेंध लगाने में ताकत लगा रहे हैं तो वहीं भाजपा ने भी विपक्षी दलों के सबसे बड़े मुस्लिम वोट बैंक में पसमांदा समाज को साधने की रणनीति बनाई है।

उत्तर प्रदेश में मुस्लिमों की आबादी करीब पांच करोड़ से अधिक

उत्तर प्रदेश में मुस्लिमों की आबादी करीब पांच करोड़ से अधिक है। इनमें पसमांदा मुस्लिमों की आबादी ढाई करोड़ से अधिक है। भाजपा ने बीते दो वर्ष से पसमांदा मुस्लिमों को साधने का अभियान चला रखा है।

पढ़ें :- भाजपाइयों ने BSP का झंडा लगी गाड़ी रोका, बोनट पर लगा झंडा उखाड़कर फेंका

इसी के तहत पसमांदा समाज के दानिश आजाद अंसारी को यूपी के योगी सरकार में राज्यमंत्री बनाया गया है। वहीं अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो.तारिक मंसूर को विधान परिषद सदस्य मनोनीत किया है।

नगरीय निकाय चुनाव में भी पसमांदा समाज के लोगों को प्रतिनिधित्व दिया गया है। योगी सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री दानिश आजाद अंसारी का कहना है कि देश में पहली बार नरेंद्र मोदी के रूप में ऐसा प्रधानमंत्री मिला है जो पसमांदा समाज की तरक्की के प्रति संजीदा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com