1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. बीजेपी छोड़कर सपा में गए बृजेश प्रजापति के भवन पर चलेगा बुलडोजर, प्राधिकरण ने दी नोटिस

बीजेपी छोड़कर सपा में गए बृजेश प्रजापति के भवन पर चलेगा बुलडोजर, प्राधिकरण ने दी नोटिस

चुनाव से ठीक पहले भाजपा का साथ छोड़कर सपा में शामिल होने वाले बृजेश प्रजापति की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं।

By Akash Singh 
Updated Date

बांदा, 31 मार्च। बीजेपी छोड़कर सपा में गए बृजेश प्रजापति के भवन पर चलेगा बुलडोजर, प्राधिकरण ने दी नोटिस जब तक भारतीय जनता पार्टी के विधायक रहे बृजेश प्रजापति तब तक उनकी आंखों के तारे बने रहे। चुनाव से ठीक पहले भाजपा छोड़कर सपा का दामन थामने वाले बृजेश प्रजापति की अब मुश्किलें बढ़ रही हैं।

पढ़ें :- उप्र : नाव दुर्घटना में लापता आठ और शव मिले, अब तक यमुना नदी से 11 शव बरामद

सरकार ने उनके खिलाफ शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। इस सिलसिले में बांदा विकास प्राधिकरण ने तिंदवारी से विधायक रहे प्रजापति को बिना नक्शा पास कराए भवन निर्माण मामले में न सिर्फ कार्रवाई की चेतावनी दी है बल्कि जवाब न देने पर चार मंजिला आलीशान भवन पर बुलडोजर चलाने की चेतावनी भी दे डाली है। साथ ही इस सिलसिले में 7 अप्रैल को तलब किया है।

तिन्दवारी से भाजपा के विधायक रहे बृजेश प्रजापति ने विधायक रहते हुए बिजली खेड़ा में 4 मंजिला मकान का निर्माण कराया है। उस समय सत्ता पक्ष का विधायक होने के कारण बांदा विकास प्राधिकरण अनधिकृत रूप से हो रहे निर्माण पर धृतराष्ट्र बना रहा, लेकिन जैसे ही सत्ता दल छोड़कर सपा में शामिल हो गए और इस चुनाव में उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा। तभी से सरकार ने उनके खिलाफ शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। मतगणना के 1 दिन पहले बृजेश प्रजापति द्वारा अपने समर्थकों के साथ मतगणना स्थल पर हंगामा करने और इसके बाद हाईस्कूल का परिचय लीक होने के बाद सरकार पर तंज कसने वाले बृजेश प्रजापति सीधे सरकार के निशाने पर आ गए।

उन्हें बांदा विकास प्राधिकरण द्वारा दी गई नोटिस में कहा है कि पूर्व विधायक द्वारा बिना नक्शा पास कराए असंवैधानिक रूप से भवन तैयार करा लिया गया। इस भवन को गिराने का आदेश क्यों न दिया जाए। प्राधिकरण द्वारा दी गई नोटिस को विधायक ने खुद सोशल मीडिया में शेयर किया है। साथ ही सरकार पर भी तंज कसा है।

बताते चलें कि, पूर्व विधायक ने शहर के बिजलीखेडा में अपना एक ऑफिस बनाया है। विधानसभा चुनाव 2022 से पहले उन्होंने बीजेपी छोड़कर सपा ज्वाइन की थी। 9 मार्च को मतगणना से पहले सपाइयों ने ईवीएम सुरक्षा के नाम पर जमकर हंगामा किया था। इस दौरान पूर्व विधायक बृजेश प्रजापति ने डीएम बांदा की गाड़ी रोकी थी जिस पर बहस भी हुई थी।

पढ़ें :- कन्हैयालाल हत्याकांड: नौंवे आरोपित मोहम्मद को 16 अगस्त तक पुलिस रिमांड पर भेजा

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...