Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. यूपीः अमेठी ब्लाक प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव फेल, 43 क्षेत्र पंचायत सदस्यों में से केवल 21 ही पहुंचे

यूपीः अमेठी ब्लाक प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव फेल, 43 क्षेत्र पंचायत सदस्यों में से केवल 21 ही पहुंचे

भारतीय जनता पार्टी की अमेठी ब्लॉक प्रमुख मंजू मौर्य के खिलाफ लगातार क्षेत्र पंचायत सदस्यों द्वारा विरोध प्रदर्शन किया जा रहा था। अमेठी ब्लाक क्षेत्र में कुल 62 क्षेत्र पंचायत सदस्य हैं। जिसमें से बुधवार को 47 सदस्यों ने हस्ताक्षर करते हुए अपना शपथ पत्र ब्लॉक प्रमुख के खिलाफ जिलाधिकारी को प्रेषित करते हुए अविश्वास प्रस्ताव लाने की बात कही थी।

By Rakesh 

Updated Date

अमेठी। भारतीय जनता पार्टी की अमेठी ब्लॉक प्रमुख मंजू मौर्य के खिलाफ लगातार क्षेत्र पंचायत सदस्यों द्वारा विरोध प्रदर्शन किया जा रहा था। अमेठी ब्लाक क्षेत्र में कुल 62 क्षेत्र पंचायत सदस्य हैं। जिसमें से बुधवार को 47 सदस्यों ने हस्ताक्षर करते हुए अपना शपथ पत्र ब्लॉक प्रमुख के खिलाफ जिलाधिकारी को प्रेषित करते हुए अविश्वास प्रस्ताव लाने की बात कही थी।

पढ़ें :- झांसी में सिपाही ने पुलिस की गाड़ी में लगाई आग, कड़ी मशक्कत के बाद आरोपी को दबोचा, जानें क्या था मामला

इसके बाद जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्रा के द्वारा सभी क्षेत्र पंचायत सदस्यों को बुलाकर उनके हस्ताक्षर वेरीफाई कराए गए। जिसमें से कुल 43 क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने पहुंचकर अपना हस्ताक्षर प्रमाणित कराया। इसके बाद 19 अक्टूबर की तारीख मुकर्रर की गई थी कि इसी दिन ब्लॉक में सभी क्षेत्र पंचायत सदस्यों की उपस्थिति में अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा होगी और जरूरत पड़ने पर वोटिंग भी कराई जाएगी। जिसके लिए तहसील प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद था।

सुबह से ही भारी मात्रा में अमेठी पुलिस के जवानों के साथ-साथ कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक अरुण कुमार द्विवेदी, पुलिस क्षेत्राधिकारी अमेठी ललन सिंह और उप जिलाधिकारी प्रीती तिवारी मौजूद थे। लेकिन क्षेत्र पंचायत संघ के अध्यक्ष भूपेंद्र मिश्रा के मंसूबों पर उस समय पानी फिर गया जब नियत समय 11 बजे से 1 बजे के अंदर सिर्फ 21 क्षेत्र पंचायत सदस्य ही ब्लॉक में पहुंचे। बाकी 41 क्षेत्र पंचायत सदस्य अनुपस्थित रहे। जिसके चलते वोटिंग की बात तो दूर अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा भी नहीं हो सकी। इस मामले में उप जिलाधिकारी प्रीति तिवारी ने बताया कि वर्तमान ब्लाक प्रमुख के खिलाफ डीएम के यहां अविश्वास प्रस्ताव के लिए नोटिस दी गई थी।

इसके बाद कमेटी बनाई गई थी और कहा गया था कि 19 तारीख को 11 बजे से 1 बजे के बीच अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा होगी। क्षेत्र पंचायत एक्ट के मुताबिक 2 घंटे का पूरा समय इंतजार किया गया। ऐसे में कोरम पूरा नहीं हो पाया। अगर गणपूर्ति पूरी हो गई होती तो विचार विमर्श के बाद उनके प्रस्ताव पर जरूरत पड़ती तो वोटिंग भी कराई जाती।

इस प्रक्रिया में कोरम पूरा होने के अभाव के कारण इस बैठक को बिना किसी प्रस्ताव पर चर्चा किए ही रोक दिया गया। क्योंकि कुल 62 क्षेत्र पंचायत सदस्यों में से सिर्फ 21 क्षेत्र पंचायत सदस्य ही पूरे इंतजार के बाद आ पाए। इस पूरे प्रकरण के अंत में आए हुए क्षेत्र पंचायत सदस्यों को यह अवगत करा दिया गया है कि आगामी 2 वर्ष तक किसी भी प्रकार का कोई अविश्वास प्रस्ताव वर्तमान ब्लाक प्रमुख के खिलाफ नहीं लाया जा सकेगा। इससे सभी क्षेत्र पंचायत सदस्य सहमत भी थे।

पढ़ें :- Badaun : ससुरालीजनों पर दामाद का आरोप, मेरी पत्नी को 2 लाख रुपए में बेच डाली साँस

क्योंकि किसी भी विधिक प्रक्रिया का विलोपन नहीं किया गया था। ऐसे में क्षेत्र पंचायत संघ के अध्यक्ष भूपेंद्र मिश्रा ने बताया कि हमारे सिर्फ 21 क्षेत्र पंचायत सदस्य यहां पर पहुंच पाए हैं। अतः जो बैठक होनी थी वह नहीं हो पाई, निरस्त हो गई। हम लोगों ने जांच के लिए प्रमुख सचिव को पत्र भेजा था। वह जिलाधिकारी के पास आ गया है। ऐसे में अगर जांच नहीं होगी तो हम लोग सामूहिक रूप से इस्तीफा देंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com