1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. यमुना एक्सप्रेस-वे पर मिले शव पर पुलिस का बड़ा खुलासा, माँ के सामने पिता ने मारी थी गोली, दोनों गिरफ्तार

यमुना एक्सप्रेस-वे पर मिले शव पर पुलिस का बड़ा खुलासा, माँ के सामने पिता ने मारी थी गोली, दोनों गिरफ्तार

एक लाल सूटकेस में एक लड़की का शव मिला जिसकी पहचान दिल्ली के बदरपुर निवासी के रूप में हुई. युवती की हत्या उसके माता-पिता ने ही 17 तारीख को घर में गोली मारकर कर दी थी.

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

Ayushi murder case: यूपी के मथुरा में यमुना एक्सप्रेस-वे के पास लाल suitcase में युवती का शव मिलने से हड़कंप मच गया था. अब इस मामले का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. पुलिस ने बताया कि युवती के पिता ने ही गोली मारकर हत्या की थी. इस हत्याकांड में उसकी मां भी शामिल थी. फिलहाल पुलिस ने मां बृजबाला और पिता नीतेश को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. बता दें कि मृतक युवती के भाई आयुष ने बहन की शिनाख्त की थी. वहीं माता-पिता ने शिनाख्त करने से इनकार कर दिया था. पुलिस ने इस ब्लाइंड केस को सुलझाने के लिए 20 हजार से अधिक मोबाइल फोन को ट्रेस किया और 200 से अधिक सीसीटीवी कैमरे भी खंगाले. इसके लिए 15 टीमों का गठन किया गया था.

पढ़ें :- UP News:सिद्धार्थ नगर में नाबालिग किशोरी से गैंगरेप का मामला आया सामने,लिफ्ट देने के बहाने चार मनचलों ने दिया घटना को अंजाम

आपको बता दें कि, पुलिस ने जांच के दौरान 48 घंटे में युवती के परिवार को खोज निकाला. मिली जानकारी के मुताबिक युवती के पिता नीतेश यादव ने ही हत्या की थी. पुलिस ने बताया कि 18 तारीख को हमें एक लाल सूटकेस में एक लड़की का शव मिला जिसकी पहचान दिल्ली के बदरपुर निवासी के रूप में हुई. युवती की हत्या उसके माता-पिता ने ही 17 तारीख को घर में गोली मारकर कर दी थी. माता-पिता को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

police investigation में सामने आया कि मृतका ने छत्रपाल नाम के युवक से 1 साल पहले आर्य समाज मंदिर में शादी की थी. इसी बात को लेकर घर में मनमुटाव चल रहा था. इसके बाद आरुषी के पिता नीतेश ने लाइसेंसी पिस्टल से 2 गोलियां मारकर उसको मौत के घाट उतार दिया. इस हत्याकांड में उसकी मां भी शामिल थी. पुलिस ने हत्याकांड में प्रयुक्त कार और लाइसेंसी पिस्टल भी बरामद कर ली है.

मथुरा के पास यमुना एक्सप्रेसवे पर बैग में मिली थी लाश
आपको बता दें कि 18 नवंबर की सुबह यमुना एक्सप्रेस की सर्विस रोड पर कृषि अनुसंधान केंद्र के पास झाड़ियों में ट्रॉली बैग मिला था. ट्रॉली बैग में युवती की लाश थी. इसके 48 घंटे में ही पुलिस मृतका के घर तक पहुंच गई. मृतका की पहचान रविवार की देर शाम मां और भाई ने की थी. हालांकि शुरुआत में ही पुलिस को लाइन मिल गई थी कि हत्यारोपी पिता ही है. इसी कारण दिल्ली के मोड़ बंद से पिता, भाई और मां को पुलिस टीमें साथ लेकर आईं, लेकिन उसको पोस्टमार्टम गृह तक नहीं लाई.

गुमशुदगी भी दर्ज नहीं कराई
खास बात यह भी है कि आयुषी 17 नवंबर को ही लापता हो गई थी, इसकी कहीं भी गुमशुदगी दर्ज नहीं कराई गई थी. वहीं, हत्या के बाद पिता भी घर से कहीं चला गया था. पोस्टमार्टम गृह पर राया पुलिस के साथ पहुंची मां और भाई ने चेहरा ढक रखा था. पोस्टमार्टम हाउस में पुलिस ने फ्रीजर को खोला तो लाश देखते ही मां और भाई बिलख पड़े. जोर-जोर से बिलखते हुए मां और बेटे एक दूसरे के गले लग गए.

पढ़ें :- मथुरा में सूटकेस में मिली 21 साल की लड़की की लाश, शरीर पर गोली और चोट के निशान

आयुषी का पिता नीतेश मूल रूप से गोरखपुर जिले के गांव सुनारी का रहने वाला है. वह कई वर्षों से दिल्ली के गांव मोड़ बंद में परिवार के साथ रह रहा है. इसकी इलेक्ट्रॉनिक की दुकान है. वहीं आयुषी बीसीए की छात्रा थी. जांच में सामने आया कि आयुषी की हत्या 17 नवंबर दोपहर को ही कर दी गई थी. इसके बाद उसके शव को घर पर ही रखा गया. यह सबकुछ परिवार के अन्य सदस्यों के सामने ही हुआ. रात का इंतजार किया गया और फिर पिता ट्रॉली बैग में बेटी की लाश लेकर यमुना एक्सप्रेसवे की तरफ निकला. रास्ते में लाश फेंकने का मौका नहीं मिला तो मथुरा के राया आकर उसने बैग को देर रात फेंक दिया. 18 नवंबर को सुबह 11:00 बजे पुलिस को सूचना मिली थी कि यमुना एक्सप्रेस-वे किनारे बैग पड़ा है, जिसमें से खून रिस रहा है.

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...