Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. धागे कच्चे पर रिश्ते पक्के, कुछ ऐसे ही होते हैं भाई-बहन के रिश्ते

धागे कच्चे पर रिश्ते पक्के, कुछ ऐसे ही होते हैं भाई-बहन के रिश्ते

रक्षाबंधन के त्यौहार का जिक्र आते ही हर भाई बहन के चेहरे पर मुस्कान तैर जाती है और हो भी क्यों न आखिर हर भाई-बहन इस त्योहार का साल भर इंतजार करते हैं।भगवान श्रीकृण्ण और द्रोपदी से शुरू हुए इस रक्षाबंधन के त्यौहार को लेकर यूं तो कई मान्यतांए  और कहानियां प्रचलित हैं।

By Rakesh 

Updated Date

नई दिल्ली। रक्षाबंधन के त्यौहार का जिक्र आते ही हर भाई बहन के चेहरे पर मुस्कान तैर जाती है और हो भी क्यों न आखिर हर भाई-बहन इस त्योहार का साल भर इंतजार करते हैं।भगवान श्रीकृण्ण और द्रोपदी से शुरू हुए इस रक्षाबंधन के त्यौहार को लेकर यूं तो कई मान्यतांए  और कहानियां प्रचलित हैं।

पढ़ें :- सावन माह पर NE RAILWAY की पहलः 20 अगस्त तक चलेगी गोरखपुर से देवघर विशेष ट्रेन

लेकिन इस बार सबसे बड़ी दुविधा ये हैं कि इस साल रक्षाबंधन की ये मुस्कान कुछ देर से आई है क्योंकि अधिकमास के चलते इस बार सावन का महीना मलमास  के साथ पूरा हुआ जिसके बाद अब रक्षाबंधन को लेकर भी लोगों में तिथि को लेकर काफी असमंजस की स्थिति देखी जा रही है  तो सबसे बड़ा सवाल ये है कि आखिर रक्षाबंधन कब मनाया जाएगा।

तो आपकी दुविधा आज हम दूर करेंगे और ज्योतिष तथा शास्त्रों की पूरी जानकारी के आधार पर आपको बताएंगे कि आखिर रक्षाबंधन का त्यौहार 30 अगस्त को मनाया जाएगा है या फिर 31 को। तो चलिए प्रोग्राम की शुरूआत करते है और आप सभी को जानकारी देने के लिए स्वागत करते हमारे बीच उपस्थित पंडित।

रक्षाबंधन को लेकर हर बार की तरह इस बार भी लगातार असमंजस की स्थिति बनी हुई है और आम लोगों के साथ ही बड़े-बड़े विद्वानों में भी रक्षाबंधन की तिथि को लेकर  दो मत बने हुए है। इसके पीछे एक बहुत बड़ा कारण ये भी है कि इस बार सावन मास अधिकमास के चलते दो माह का रहा जिसकी वजह से अब सावन मास की पूर्णिमा को लेकर अलग-अलग मत बन रहे है।

बता दे हिंदु कलेंडर के आधार पर हर वर्ष सावन महीने की पूर्णिमा तिथि को रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता है जिसकों लेकर इस साल कुछ ज्यादा ही दुविधा बनी हुई हैं। लेकिन ज्योतिषाचार्यों और विद्वानों की माने तो इस बार रक्षाबंधन 30 अगस्त को ही मनाया जाएगा।

पढ़ें :- कांवड़ यात्रा 22 जुलाई से, मुख्यमंत्री योगी ने दिए आदेश, कहा- कांवड़ के दौरान सड़कों पर न रहे जलभराव

30 अगस्त को सुबह 10.58 मिनट पर ही पूर्णिमा तिथि की शुरूआत हो जाएगी

क्योंकि विद्वानों का कहना है कि 30 अगस्त को सुबह 10.58 मिनट पर ही पूर्णिमा तिथि की शुरूआत हो जाएगी, लेकिन भद्रा लगने के काऱण शाम 9 बजे तक रक्षाबंधन का महुर्त नहीं निकल पा रहा। 9.01 मिनट से भद्रा की समाप्ति के साथ ही, पूर्णिमा तिथि में रक्षाबंधन का त्योहार बिना किसी दुविधा के मनाया जा सकेगा तो ऐसे में ये साफ हो जाता है कि 30 अगस्त को ही रक्षाबंधन मनाया जाएगा।

लेकिन अलग अलग तर्कों का बात करे तो सवाल ये भी है कि हिंदू कलेंडर के अनुसार अक्सर सभी त्योहार उदया तिथि यानि सूर्योदय के साथ मनाने की बात की जाती है तो हम आपका ये कंफ्यूजन भी दूर कर देते है।

31 अगस्त की अगर बात की जाए तो उस दिन पूर्णिमा का महुर्त सिर्फ प्रात: 7 बजकर 5 मिनट तक ही रहने वाला है ऐसे में 31 तारीख को रक्षा बंधन मनाना सभी के लिए या फिर दूर दराज के लोगों के लिए संभव नहीं होगा साथ ही आपको बता कि देवभूमि उत्तराखण्ड में इस बारे में बाकायदा शास्त्रार्थ करने के बाद इस बात का निर्णय लिया गया कि रक्षाबंधन के लिए हर लिहाज़ से 30 अगस्त ही शुभ दिन रहने वाला है।

तो कुल मिलाकर धार्मिक तिथियों और ज्योतिष के आधार पर साल 2023 में 30 अगस्त को ही बहने अपने भाई की कलाई पर राखी का धागा सजाकर प्रेम के अटूट बंधन को संजोने का काम करेंगी।

पढ़ें :- Amethi में वायरल हो रही भूतनी, तेजी से शेयर हो रहें ऑडियो - वीडियो, जानें वायरल खबर का सच ?

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com