1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Mining Lease Case : सीएम हेमंत सोरेन चुनाव आयोग में नहीं हुए पेश, कहा वकील है बीमार

Mining Lease Case : सीएम हेमंत सोरेन चुनाव आयोग में नहीं हुए पेश, कहा वकील है बीमार

खनन पट्टे मामले में आज सीएम हेमंत सोरेन को चुनाव आयोग के समक्ष पेश होना था, लेकिन वकील की तबीयत खराब होने की वजह से उन्होंने आगे का समय मांगा। कल भाई बसंत सोरेन को होना है चुनाव आयोग में पेश।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

झारखंड, 14 जून 2022। Jharkhand News : खनन पट्टा मामले में सीएम सोरेन को आज (14 जून) चुनाव आयोग के समक्ष पेश होना था। लेकिन वह आज चुनाव आयोग के समक्ष पेश नहीं हो पाए हैं। इसके लिए सीएम सोरेन ने वकील की तबीयत खराब होने की वजह आयोग को बताई है। साथ ही उन्होंने अतिरिक्त समय की मांग भी की है। इस पर चुनाव आयोग द्वारा उन्हें 28 जून तक का समय दिया है। इसी मामले में सीएम के भाई बसंत सोरेन को कल (15 जून) आयोग के समक्ष पेश होना है।

पढ़ें :- Jharkhand : आयोग ने बसंत सोरेन के जवाब पर बीजेपी को रिज्वाइंडर दाखिल करने के लिए दिया दो सप्ताह का समय

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अवैध खनन पट्टा मामले में आज पेशी होनी थी। लेकिन वकील की अनुपलब्धता को आधार बनाते हुए उन्होंने समक्ष पेश होने में असमर्थतता जाहिर की, साथ ही उन्होंने आगे का समय मांगा है। अवैध खनन पट्टा मामले में चुनाव आयोग ने सीएम सोरेन को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 9 ए के अंतर्गत नोटिस जारी किया था।

सीएम के भाई बसंत सोरेन पर भी लगा है आरोप

सीएम हेमंत सोरेन के छोटे भाई बसंत सोरेन दुमका से  विधायक है। बीजेपी ने बसंत सोरेन के खिलाफ राज्यपाल रमेश बैस से पद के दुरुपयोग की शिकायत की थी। जिसके बाद राज्यपाल ने इस मामले को लेकर चुनाव आयोग से सलाह मांगी थी। जिसके बाद चुनाव आयोग ने अवैध खनन पट्टा मामले में बंसत सोरेन को जवाब दाखिल करने के लिए 10 जून का समय दिया था, लेकिन बाद में उनको समय देते हुए 15 जून का आयोग के समक्ष पेश होने का आदेश दिया गया है।

निशिकांत दूबे ने किया ट्वीट 

पढ़ें :- Jharkhand : ऊफान पर झारखंड की सियासत, निशिकांत का दावा- मिथिलेश ठाकुर की विधायकी पर लटकी चुनाव आयोग की तलवार

इस मामले पर ट्वीट करते हुए भाजपा के सांसद निशिकांत दूबे ने लिखा ” झारखंड के मुख्यमंत्री के वकील को कोरोना हो गया,देश में उस वकील से ज़्यादा कोई काबिल वकील नहीं है,इसलिए चुनाव आयोग से अपनी सदस्यता बचाने के लिए समय की गुहार की।चुनाव आयोग ने मुख्यमंत्री के लटके झटकों से परेशान होकर आख़िर दिन 28 जून का समय मुक़र्रर किया ।समय सीमा समाप्त?

 

पढ़ें :- Mine Lease Case : जवाब देने के लिए सीएम हेमंत सोरेन ने निर्वाचन आयोग से मांगा समय, बीमार मां की तबीयत का दिया हवाला

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...