1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Inflation : 18 जुलाई से लागू होंगी GST की नई दरें, दही, लस्सी और छाछ जैसी चीजें होंगी महंगी, जानें और क्या होगा महंगा?

Inflation : 18 जुलाई से लागू होंगी GST की नई दरें, दही, लस्सी और छाछ जैसी चीजें होंगी महंगी, जानें और क्या होगा महंगा?

अब 18 जुलाई से 1000 रुपये से कम किराए वाले होटल के कमरों पर भी 12 प्रतिशत की दर से GST की वसूली की जाएगी।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 14 जुलाई। देश में GST की नई दरें अगले हफ्ते के पहले दिन यानी 18 जुलाई से लागू हो जाएंगी। नई दरों के लागू होने के बाद टेट्रा पैकिंग वाली लस्सी, दही और छाछ जैसी चीजें भी पहली बार GST के दायरे में आ जाएंगी। जिसकी वजह से आम आदमी पर महंगाई का बोझ थोड़ा और बढ़ सकता है।

पढ़ें :- Kolkata : ममता बनर्जी ने बीजेपी को घेरते हुए कहा- 2024 में लोग बीजेपी को सत्ता से बेदखल कर देंगे

5 हजार से ज्यादा ICU कमरे के लिए 5% GST

GST काउंसिल की 47वीं बैठक में ऐसी कई वस्तुओं को GST के दायरे में लाने का फैसला किया गया है, जिनपर अभी तक कोई टैक्स नहीं लगता था। वहीं कई चीजों पर GST की दर कम भी की गई है, जिसका फायदा आम लोगों को मिल सकेगा। GST काउंसिल की बैठक में लिए गए फैसले के मुताबिक 18 जुलाई से टेट्रा पैक वाले दही, लस्सी और छाछ पर 5% की दर से GST की वसूली की जाएगी। अभी तक ये चीजें GST के दायरे से बाहर थीं। इसी तरह अस्पतालों में नन ICU कमरों के मामले में 5 हजार रुपये से अधिक किराए वाले कमरों के लिए 5 प्रतिशत की दर से GST चुकाने की बाध्यता हो जाएगी।

नया चेक बुक इश्यू कराने पर देना होगा 18% GST

वहीं काउंसिल की बैठक में लिए गए फैसले के मुताबिक होटल के कमरों के किराए के मामले में भी GST के दायरे को बढ़ाया गया है। अब 18 जुलाई से 1000 रुपये से कम किराए वाले होटल के कमरों पर भी 12 प्रतिशत की दर से GST की वसूली की जाएगी। अभी तक 1000 रुपये से कम किराए वाले होटल के कमरों पर GST देने की जरूरत नहीं पड़ती थी। इसके अलावा बैंक से नया चेक बुक इश्यू कराने पर उसके लिए बैंक द्वारा वसूल किए जाने वाले चार्ज पर भी 18 जुलाई से 18 प्रतिशत GST ली जाएगी।

पढ़ें :- GST : आटा, दाल और चावल खुले में बेचने पर नहीं लगेगा GST, सीतारमण ने कहा-टैक्स लीकेज को रोकने के लिए ये फैसला बेहद जरूरी

सामान्य चीजों पर GST 12 से 18 % किया गया

इसी तरह एटलस और मैप को भी GST काउंसिल के फैसले के मुताबिक 12 प्रतिशत टैक्स के दायरे में लिया गया है। दूसरी ओर LED लैंप और LED लाइट्स पर लगने वाले GST के स्लैब को 12 प्रतिशत से बढ़ाकर 18 प्रतिशत कर दिया गया है। वहीं कांटे वाले चम्मच, स्कीमर्स, सामान्य चम्मच, ब्लेड, पेपर कटर, कैची, पेंसिल और शार्पनर पर लगने वाले GST के दायरे को भी 12 प्रतिशत से बढ़ाकर 18 प्रतिशत कर दिया गया है।

कुछ चीजों के GST स्लैब में कमी की गई

GST काउंसिल की 47वीं बैठक में जहां कुछ चीजों को GST के दायरे में लाया गया है और कुछ चीजों में GST के दर में बढ़ोतरी की गई है, वहीं कुछ चीजों में GST की दर में कटौती भी की गई है। इन चीजों पर 18 जुलाई के बाद से घटी हुई दर पर ही GST की वसूली की जाएगी। जिन चीजों के GST स्लैब में कमी की गई है, उनमें फ्रैक्चर उपकरण, शरीर के कृत्रिम अंग, इंट्राऑक्यूलर लेंस, बॉडी इंप्लांट्स और स्प्लिंट्स जैसी चीजें शामिल हैं, जिन पर GST की दर को 12 प्रतिशत से घटाकर 5% के स्लैब में लाया गया है।

इसी तरह सुरक्षाबलों के लिए आयात की जाने वाली कुछ खास वस्तुओं को पूरी तरह से IGST के दायरे से बाहर कर दिया गया है। GST काउंसिल की बैठक में लिए गए फैसले के मुताबिक ईंधन की लागत को शामिल करके किराए की गणना करने वाले ऑपरेटर्स को माल ढुलाई के किराए में राहत दी गई है। 18 जुलाई से इन ऑपरेटर्स को किराए पर 18 प्रतिशत की जगह 12 प्रतिशत GST का भुगतान करना होगा। इसके अलावा रोप-वे के जरिए मुसाफिरों या सामानों को लेकर आने जाने के किराए पर भी GST की दर 18 से घटाकर 5 प्रतिशत कर दी गई है।

पढ़ें :- एक जून से होंगे कई बड़े बदलाव, गाड़ियों के थर्ड पार्टी इंश्योरेंस और बैंकिंग सेक्टर सहित देखें क्या-क्या होगा महंगा?

बतादें कि अगले हफ्ते से जहां आम लोगों को कुछ चीजों के लिए GST के दायरे में हुई बढ़ोतरी की वजह से अधिक कीमत चुकानी होगी, वहीं कुछ चीजों की GST दर में हुई कमी से उन्हें राहत भी मिल सकेगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...