Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. ‘दीवानी विवाद’ के मामले में सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, ‘SC/ST एक्ट’ नहीं हो सकता लागू

‘दीवानी विवाद’ के मामले में सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, ‘SC/ST एक्ट’ नहीं हो सकता लागू

Supreme Court:सुप्रीम कोर्ट ने जमीन और संपत्ति से जुड़े मामले ('दीवानी विवाद')को लेकर एक अहम फैसला लिया है,'दीवानी विवाद' में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार 'SC/ST एक्ट'(एससी-एसटी एक्ट) नहीं लागू हो सकता है,

By रेनू मिश्रा 

Updated Date

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने जमीन और संपत्ति से जुड़े मामले (‘दीवानी विवाद’)को लेकर एक अहम फैसला लिया है,’दीवानी विवाद’ में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार ‘SC/ST एक्ट'(एससी-एसटी एक्ट) नहीं लागू हो सकता,सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार अनुसूचित जाति समुदाय का कोई व्यक्ति अपने और उच्च जाति समुदाय के किसी सदस्य के बीच विशुद्ध रूप से दीवानी विवाद को एससी और एसटी अधिनियम के दायरे में लाकर, इस कड़े दंड कानून को हथियार नहीं बना सकता.

पढ़ें :- दिल्ली-NCR की हवा में हुई सुधार, हटाई गई ग्रैप के दूसरे चरण की पाबंदियां, हो सकेंगे ये काम

 

अनुसूचित जाति समुदाय से संबंधित पी. भक्तवतचलम ने एक खाली भूखंड पर एक घर का निर्माण किया था. इसके बाद, उच्च जाति समुदाय के सदस्यों द्वारा उनके भूखंड के बगल में एक मंदिर का निर्माण किया जाने लगा.मंदिर के संरक्षकों ने शिकायत दर्ज कराई थी कि भक्तवतचलम ने भवन निर्माण नियमों का उल्लंघन करते हुए, अपने घर के भूतल और पहली मंजिलों में अनधिकृत निर्माण कराया है. इसके जवाब में, पी. भक्तवतचलम ने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति अधिनियम के तहत एक शिकायत दर्ज कराई, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि मंदिर का निर्माण आम रास्ते, सीवेज और पानी की पाइपलाइनों पर अतिक्रमण करके हो रहा. उन्होंने अपनी शिकायत में कहा कि उच्च जाति समुदाय के लोग सिर्फ उन्हें परेशान करने के लिए उनके घर के बगल में ​मंदिर का निर्माण करवा रहे हैं. पी. भक्तवतचलम ने अपनी शिकायत में यह भी कहा कि उन्हें अपनी संपत्ति के शांतिपूर्ण आनंद से केवल इसलिए वंचित किया जा रहा है, क्योंकि वह एससी समुदाय से आते हैं.

 

यह मामला मद्रास हाईकोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट पहुंचा तब आरोपी व्यक्तियों को जारी किए गए समन को रद्द कर शीर्ष अदालत ने कहा कि विशुद्ध रूप से दीवानी विवाद के एक मामले को SC/ST अधिनियम के तहत जातिगत उत्पीड़न के मामले में बदलने का प्रयास किया जा रहा है, जो कानून की प्रक्रिया का दुरुपयोग है.न्यायमूर्ति एमआर शाह ने फैसला लिखते हुए कहा,‘ऐसा लगता है कि दो पक्षों के बीच निजी दीवानी विवाद को आपराधिक कार्यवाही में बदल दिया गया है. अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम, 1989 की धारा 3(1)(v) और (v)(a) के तहत अपराधों के लिए आपराधिक कार्यवाही शुरू करने का प्रयास किया गया. इसलिए, यह और कुछ नहीं बल्कि कानून और अदालत की प्रक्रिया का दुरुपयोग है. रिकॉर्ड पर रखे दस्तावेजों से, हम संतुष्ट हैं कि इस केस में एससी और एसटी अधिनियम के तहत अपराधों के लिए कोई मामला नहीं बनता है, यहां तक ​​कि प्रथम दृष्टया भी नहीं बनता है. अधिनियम की धारा 3(1)(v) और (v)(a) के तहत कोई अपराध नहीं हुआ है’.

पढ़ें :- दिल्ली के केशवपुरम में कार ने मारी स्कूटी सवार को टक्कर, बोनट पर फंसे शख्स को 350 मीटर तक घसीटा, मौके पर मौत

 

जस्टिस एमआर शाह ने फैसले में आगे लिखा, ‘इसलिए, हमारा दृढ़ विचार है कि मामले के तथ्यों और परिस्थितियों में, उच्च न्यायालय को दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 482 के तहत शक्तियों का प्रयोग करते हुए आपराधिक कार्यवाही को रद्द कर देना चाहिए था. उच्च न्यायालय द्वारा दिया गया आदेश टिकने योग्य नहीं है और इसे रद्द किया जाना चाहिए. अपीलकर्ताओं के खिलाफ अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत शुरू की गई आपराधिक कार्यवाही भी रद्द की जानी चाहिए.’

इससे पहले भी 25 अक्टूबर, 2021 को अपने एक फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, ‘अगर किसी अदालत को ऐसा महसूस होता है कि SC/ST अधिनियम के तहत दर्ज कोई अपराध पूरी तरह से निजी या दीवानी से जुड़ा हुआ है या पीड़ित की जाति देखकर नहीं करा गया है, तो अदालतें मामले की सुनवाई निरस्त करने की अपनी ताकत का उपयोग कर सकती हैं.’

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com