Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. चंद्रग्रहणः शनिवार शाम 04 बजे के बाद से शुरू होगा सूतक काल, इस राशि के लोगों को होगी परेशानी

चंद्रग्रहणः शनिवार शाम 04 बजे के बाद से शुरू होगा सूतक काल, इस राशि के लोगों को होगी परेशानी

साल 2023 का आखिरी चंद्रग्रहण 28 अक्तूबर को लगने जा रहा है। शनिवार को शरद पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। शरद पूर्णिमा का हिंदू धर्म में बहुत ज्यादा महत्व है। शरद पूर्णिमा की रात चंद्रमा से निकलने वाली किरणें अमृत के समान मानी जाती हैं। यही वजह है कि इस दिन लोग खुले आसमान के नीचे खीर बनाकर रखते हैं। हालांकि इस बार शरद पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण की छाया पड़ने के कारण आसमान से अमृत नहीं बरसेगा।

By Rakesh 

Updated Date

नई दिल्ली। साल 2023 का आखिरी चंद्रग्रहण 28 अक्तूबर को लगने जा रहा है। शनिवार को शरद पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। शरद पूर्णिमा का हिंदू धर्म में बहुत ज्यादा महत्व है। शरद पूर्णिमा की रात चंद्रमा से निकलने वाली किरणें अमृत के समान मानी जाती हैं। यही वजह है कि इस दिन लोग खुले आसमान के नीचे खीर बनाकर रखते हैं। हालांकि इस बार शरद पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण की छाया पड़ने के कारण आसमान से अमृत नहीं बरसेगा।

पढ़ें :- 21 राज्यों की 102 सीटों पर वोटिंग जारी,  बंगाल में हिंसा से मतदान प्रभावित; मणिपुर के मतदान केंद्र में घुसे हथियारबंद लोग

जानें किस राशि में लग रहा चंद्र ग्रहण 
28/29 अक्तूबर की मध्य रात्रि को शुरू होने वाला चंद्रग्रहण मेष राशि में लगेगा। मेष राशि में लगने की वजह से इस राशि के जातकों को ग्रहण के अशुभ परिणाम झेलने पड़ सकते हैं। साल के आखिरी चंद्र ग्रहण का प्रभाव मेष राशि के लोगों के मन और मस्तिष्क पर पड़ेग।

सूतक लगने से पहले कर लें ये काम
चंद्रग्रहण का सूतक काल शनिवार शाम 04 बजे के बाद से शुरू होने वाला है। ऐसे में उससे पहले खाने की चीजों में तुलसी की पत्तियां या कुशा डाल दें और मंदिर के कपाट बंद कर दें। चंद्र ग्रहण के दौरान चंद्र देव के मंत्र ‘ॐ श्रीं श्रीं चन्द्रमसे नमः’ का जाप करने से चंद्र दोष का प्रभाव कम हो जाता है।

भारत के इन शहरों में दिखाई देगा चंद्रग्रहण
28/29 अक्तूबर की मध्य रात्रि लगने वाला साल का आखिरी चंद्र ग्रहण भारत में चंद्र ग्रहण दिल्ली, गुवाहटी, जयपुर, जम्मू, कोल्हापुर, कोलकाता और लखनऊ, मदुरै, मुंबई, नागपुर, पटना, रायपुर, राजकोट, रांची, शिमला, सिल्चर, उदयपुर, उज्जैन, बडौदरा, वाराणसी, प्रयागराज, चेन्नई, हरिद्वार, द्वारका, मथुरा, हिसार, बरेली, कानपुर, आगरा, रेवाड़ी,अजमेर, अहमदाबाद, अमृतसर, बेंगलुरु भोपाल, भुवनेश्वर, चंडीगढ़, देहरादून, लुधियाना समेत कई शहरों में नजर आएगा।

बरतें ये सावधानियां 
चंद्र ग्रहण के दौरान घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। अगर आप चंद्र ग्रहण के दौरान घर से बाहर भी निकल गए हैं तो चंद्रमा की ओर से न देखें। इसके अलावा चंद्र ग्रहण के दौरान यदि आप घर से बाहर हैं तो किसी चौराहे के आसपास जाने से बचें। दरअसल ग्रहण के दौरान चौक-चौराहों पर जाने की मनाही है। ऐसा इसलिए क्योंकि रात के समय ऐसी जगहों पर नकारात्मक शक्तियां सक्रिय हो जाती हैं।

पढ़ें :- राजनीति के खिलाड़ीः कौन हैं बृजभूषण शरण सिंह, जिनकी कैसरगंज सीट पर उम्मीदवारी को लेकर बना हुआ है SUSPENSE

गर्भवती महिलाएं रखें इनका ध्यान
गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। गर्भवती महिलाओं को चंद्र ग्रहण के समय चंद्रमा को नहीं देखना चाहिए। इस दौरान घर से बाहर भी नहीं निकलना चाहिए। इस समय कैंची, चाकू जैसी किसी भी धारदार चीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान नुकीली चीजों से कोई वस्तु नहीं काटनी चाहिए।

क्यों लगता है चंद्र ग्रहण ?
सूर्य के चारों तरफ पृथ्वी घूमती है और चंद्रमा पृथ्वी का चक्कर लगाता है। इस प्रक्रिया में एक ऐसा समय आता है जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य एक ही सीध में आ जाते हैं और सूर्य का प्रकाश पृथ्वी पर पड़ता है, लेकिन चंद्रमा तक नहीं पहुंच पाता है। इस घटना को खगोलीय घटना के रूप में चंद्रग्रहण कहा जाता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com