Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. बिहार
  3. बिहार का बाहुबली जेल से आया बाहर

बिहार का बाहुबली जेल से आया बाहर

सुबह तकरीबन 4 बजे के करीब बिहार में बाहुबली से नाम से जाने जाना वाला आनंद मोहन जेल से रिहा हो चुका है अब सियासत अपने चरम पर है कई सवाल अभी भी सरकार पर उठ रहे है.

By Avnish 

Updated Date

बिहार में दो दिनों से लगातार नीतीश कुमार की आलोचना हो रही थी और यह आलोचना जिस चीज को लेकर हो रही थी आखिरकार वो चीज सच साबित हो गई यानि की पूर्व सांसद आनंद मोहन की सुबह तकरीबन 4 बजे के करीब रिहाई हो गई है हालाकिं अभी तक यह साफ नहीं हुआ है कि आखिर यह रिहाई कराई क्यों गई है 26 अप्रैल तक यह खबर थी कि सहरसा जेल बाहुबली की रिहाई गुरूवार को दोपहर तक करेगा लेकिन सुबह-सवेरे यह रिहाई आखिर क्यों हुई है इसपर सबका शक जा रहा है.

पढ़ें :- भारत रत्न कर्पूरी ठाकुर को क्यों कहा जाता है जननायक, सभी लोगों के बीच थे लोकप्रिय, जानें उनके जीवन से जुड़ी बातें

 

इससे पहले की बात करें तो पूर्व सांसद अपने बेटे की सगाई में उपस्थित होने के लिए 15 दिनों के लिए पैरोल पर बाहर आए थे सुबह से ही आनंद के समर्थक जेल के बाहर जुटने लगे थे इसीलिए यह माना जा रहा था कि दोपहर तक यहां सहरसा जेल के बाहर समर्थकों का हूजुम लग जाता और फिर मीडियाकर्मी भी सवाल जवाब करते इन सब चीजों से बचने के लिए पहले ही जेल से बाहुबली को रिहा कर दिया गया.

 

कौन से केस में अंदर थे आनंद मोहन

पढ़ें :- दिल्ली में उमड़ा आस्था का सैलाबः सूर्यदेव व छठी मइया की पूजा-अर्चना के साथ धूमधाम से मना छठ पर्व, व्रतियों ने उगते सूर्य को दिया अर्घ्य

कई सालों से जेल के चार दिवारी में बंद थे आनंद मोहन अब बाहर आ चुके है चलिए जानते है कि आखिर कौन से गुनाह में वो जेल के अंदर गए थे 4 दिसंबर 1994 में छोटन शुक्ला की हत्या कर दी थी छोटन शुक्ला आनंद मोहन के ही पार्टी के नेता थे फिर आया 5 दिसंबर जब मुजफ्फरपुर में भारी प्रदर्शन किया गया बाहुबली के नेतृत्व में यह हंगामा हुआ फिर आनंद ने भीड़ को काफी भड़काया इसी प्रदर्शन के दौरान कृष्णैया लौट रहे थे फिर आक्रोषित भीड़ ने कृष्णैया की गाड़ी पर हमला बोल दिया उस समय जीलाअधिकारी को पीटा गया फिर गोली से मारकर हत्या कर दी गईं.

 

रिहाई के लिए जेल मैनुअल को बदला गया

बिहार के सीएम पर कई सवाल इस वक्त खड़े हो रहे है यह भी इल्जाम लग रहे है कि जेल के मौनुअल में भी बदलाव किया गया है ना सिर्फ आनंद मोहन बल्कि उनके साथ 27 कैदियों को भी संशोधन के बाद रिहा किया गया है इसके लिए विधि विभाग ने नोटिफिकेशन जारी भी किया था बताते चले कि आनंद मोहन गोपालगंज के तत्कालीन डीएम जी कृष्णैया की हत्या मामले में सजा पूरी कर चुके है. इसके लिए तकरीबन 15 साल तक जेल में बंद रहे है

पढ़ें :- दहशतः DELHI-NCR में भूकंप के झटके, घरों से बाहर भागे लोग
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com