Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Zakir Husain Birthday: भारत के तीसरे राष्ट्रपति ने रखी थी जामिया यूनिवर्सिटी की नींव,

Zakir Husain Birthday: भारत के तीसरे राष्ट्रपति ने रखी थी जामिया यूनिवर्सिटी की नींव,

डॉक्टर जाकिर हुसैन ने 13 मई 1967 को भारत के तीसरे और पहले मुस्लिम राष्ट्रपति के तौर पर शपथ ली थी. राष्ट्रपति बनने से पहले जाकिर हुसैन उप राष्ट्रपति के पद पर थे.

By इंडिया वॉइस 

Updated Date

Zakir Husain Birthday : भारत के इतिहास में अबतक 15 राष्ट्रपति हो चुके हैं. आपको देश के पहले और मौजूदा राष्ट्रपति के नाम तो याद होंगे लेकिन इस लिस्ट के नामों को याद करने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ेगी. देश के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद थे तो वहीं मौजूदा राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि देश के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति डॉ. जाकिर हुसैन थे और आज उनकी जयंती है.

पढ़ें :- राजस्थान सरकार के महिला आरक्षण के फैसले पर युवाओं को ऐतराज!

1926 से लेकर 1948 तक रहे जामिया के वाइस चांसलर

डॉ. जाकिर हुसैन स्वतंत्रता सेनानी एवं भारत के तीसरे राष्ट्रपति थे। उनकी गिनती देश के प्रथम मुस्लिम राष्ट्रपति के तौर पर होती है. डॉ. जाकिर हुसैन का कार्यकाल 13 मई 1967 से 3 मई 1969 तक था. मात्र 23 वर्ष की अवस्था में वे ‘जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय’ की स्थापना दल के सदस्य बने. उनकी गिनती दुनिया के जानेमाने अर्थशात्रियों और शिक्षाविदों में की जाती थी. वे जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के1926 से लेकर 1948 तक वाइस चांसलर भी रहे.

1963 में मिला भारत रत्न सम्मान

1948 के बाद डॉ. हुसैन ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर रहते हुए वहां की शिक्षा को नई ऊंचाइयां भी दीं. शिक्षा में उनकी सेवाओं के लिए 1954 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म विभूषण से नावाजा और 1952 से 1957 तक वे शिक्षा में विशेषज्ञता रखने के नाते संसद में नामित भी किए गए
1962 में वे देश के उपराष्ट्रपति चुने गए. इसके बाद अगले साल उन्हें भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया.

पढ़ें :- राजस्थान की भजनलाल सरकार के पहले बजट में क्या होगा ख़ास… आमजन को क्या आस ?

आज जाकिर हुसैन का जन्मदिन है, जिनका आज ही के दिन 8 फरवरी 1897 में जन्म हुआ था. वैसे तो उनका जन्म हैदराबाद में हुआ था, लेकिन मूल रूप से वह अफगानिस्तान के रहने वाले थे. ऐसे में उनके पूर्वज 18वीं सदी में अफगानिस्तान से भारत आ गए थे. जाकिर हुसैन का बचपन बड़े ही कठिनाइयों में गुजरा था. वह जब 10 साल के थे, तो उनके पिता गुजर चुके थे. वहीं 4 साल बाद उनकी मां का भी निधन हो गया. लेकिन यह भी उनकी मेहनत का नतीजा था कि पख्तूनों के आफरीदी कबीले से आने वाले इन्ही जाकिर हुसैन ने आगे जाकर बर्लिन की यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में PHD की.

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com