1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Japan : बाइडेन ने किया हिंद प्रशांत व्यापार समझौते का ऐलान, भारत मजबूत हिस्सा, चीन परेशान

Japan : बाइडेन ने किया हिंद प्रशांत व्यापार समझौते का ऐलान, भारत मजबूत हिस्सा, चीन परेशान

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने चीन के बढ़ते दबदबे पर अंकुश लगाने के लिए एशिया पर केंद्रित हिंद प्रशांत व्यापार समझौते का ऐलान किया है। भारत जहां इस समझौते में शामिल शुरुआती 13 देशों में एक है, वहीं चीन को इससे दूर रखा गया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

टोक्यो, 23 मई। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने चीन के बढ़ते दबदबे पर अंकुश लगाने के लिए एशिया पर केंद्रित हिंद प्रशांत व्यापार समझौते का ऐलान किया है। भारत जहां इस समझौते में शामिल शुरुआती 13 देशों में एक है, वहीं चीन को इससे दूर रखा गया है।

पढ़ें :- Japan : क्वॉड शिखर सम्मेलन में नेताओं ने कहा- वैश्विक शांति के लिए भारत-अमेरिका की दोस्ती अहम

हिंद प्रशांत व्यापार समझौते में 13 देश शामिल

जापान में क्वाड्रिलेटरल सेक्योरिटी डॉयलाग (क्वॉड) की बैठक में हिस्सा लेने गए बाइडेन ने कहा कि भारत सहित 13 देश इसका हिस्सा होंगे। इस समझौते का हिस्सा बने देशों में अमेरिका, भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया, ब्रुनेई, इंडोनेशिया, दक्षिण कोरिया, मलेशिया, न्यूजीलैंड, फिलीपींस, सिंगापुर, थाइलैंड और वियतनाम शामिल हैं। बाइडेन ने कहा कि ये समझौता क्षेत्र में हमारे करीबी दोस्तों और भागीदारों के साथ काम करने और आर्थिक प्रतिस्पर्धा सुनिश्चित करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चुनौतियों के साथ काम करने की प्रतिबद्धता साबित होगा।

व्हाइट हाउस का कहना है कि नया हिंद-प्रशांत व्यापार समझौता आपूर्ति शृंखला, डिजिटल व्यापार, स्वच्छ ऊर्जा, कर्मचारी सुरक्षा और भ्रष्टाचार निरोधी प्रयासों सहित विभिन्न मुद्दों पर अमेरिका और एशियाई अर्थव्यवस्थाओं की अधिक निकटता से काम करने में मदद करेगा। एशिया प्रशांत देशों के बीच मजबूत आर्थिक समझौते की बात पहले भी होती रही है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने पिछले साल भी कहा था कि अमेरिका हिंद प्रशांत व्यापार समझौते के माध्यम से समग्र विकास की संभावनाओं को मजबूत समझता है। इस पहल के जरिए अमेरिका स्वच्छ ऊर्जा, आधारभूत ढांचागत विकास जैसे साझा हित के मुद्दों पर एशिया के देशों के साथ समझौता करेगा।

पढ़ें :- Omicron Variants: जापान में कोरोना का ओमीक्रोन वेरिएंट का पहला मामला दर्ज
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...