Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. चंद्र ग्रहण पांच मई को, गर्भवती महिलाएं रखें विशेष ध्यान

चंद्र ग्रहण पांच मई को, गर्भवती महिलाएं रखें विशेष ध्यान

 साल का पहला चंद्र ग्रहण 5 मई को लग रहा है। इस दिन बुध पूर्णिमा का पर्व पड़ रहा है। आपको बताते चलें जब चंद्रमा और सूर्य के बीच में पृथ्वी आती है, तब ग्रहण लगता है। जबकि ज्योतिष शास्त्र में ग्रहण काल को अशुभ माना जाता है।

By Rajni 

Updated Date

नई दिल्ली।  साल का पहला चंद्र ग्रहण 5 मई को लग रहा है। इस दिन बुध पूर्णिमा का पर्व पड़ रहा है। आपको बताते चलें जब चंद्रमा और सूर्य के बीच में पृथ्वी आती है, तब ग्रहण लगता है। जबकि ज्योतिष शास्त्र में ग्रहण काल को अशुभ माना जाता है। ग्रहण काल के ठीक 12 घंटे पहले सूतक काल लगता है। जिसमें मांगलिक कार्यों को करने की मनाही होती है। ग्रहण काल में इसका प्रभाव राशियों पर भी देखने को मिलता है। लेकिन आज हम आपको बताएंगे कि चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, किन-किन कार्यों से बचना चाहिए।

पढ़ें :- पूर्व केन्द्रीय मंत्री राजेश पायलट की 24वीं पुण्यतिथि, बेटे सचिन पायलट, अशोक गहलोत समेत नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

वजनदार चीजों का भी न करें इस्तेमाल

ज्योतिषाचार्य बताते हैं कि सूर्य ग्रहण या फिर चंद्र ग्रहण में खासकर गर्भवती महिलाओं को विशेष ध्यान देना चाहिए। चंद्र ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को वजनदार चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इतना ही नहीं भूल कर भी उन्हें धारदार चीजों को नहीं छूना चाहिए। ऐसा करने से मां और गर्भ में पल रहे बच्चे पर बुरा प्रभाव पड़ता है। चंद्र ग्रहण के दौरान तनाव से मुक्ति के लिए भगवान का जप करना चाहिए। इस दौरान गृह क्लेश और विवाद से बचना चाहिए। इसके अलावा चंद्र ग्रहण के दिन भगवान के मंत्रों का जप करना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com