1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Entrance Exam For Admission : केंद्रीय विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए 13 भाषाओं में होगी प्रवेश परीक्षा, अप्रैल से होंगे आवेदन

Entrance Exam For Admission : केंद्रीय विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए 13 भाषाओं में होगी प्रवेश परीक्षा, अप्रैल से होंगे आवेदन

अब तक केंद्रीय विश्वविद्यालयों में प्रवेश 12वीं कक्षा के प्राप्त अंकों के आधार पर मिलता था।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 22 मार्च। देशभर के केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शैक्षणिक सत्र 2022-23 से स्नातक कार्यक्रमों में दाखिला केंद्रीय विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (CUET) की मेरिट के आधार पर होगा। ये प्रवेश परीक्षा 13 भाषाओं में आयोजित की जाएगी। आवेदन की प्रक्रिया अप्रैल के पहले हफ्ते से शुरू होगी।

पढ़ें :- Jharkhand : कांग्रेस विधायक बंधु तिर्की के खिलाफ 9 घंटे चली CBI की कार्रवाई, मामले में राजनीति तेज

शिक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को जारी सार्वजनिक नोटिस को साझा करते हुए कहा कि सभी UGC वित्त पोषित केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शैक्षणिक सत्र 2022-2023 से स्नातक कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए, सामान्य विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (CUET) 13 भाषाओं में आयोजित की जाएगी। आवेदन अप्रैल 2022 के पहले सप्ताह में उपलब्ध होगा। गौरतलब है कि अब तक केंद्रीय विश्वविद्यालयों में प्रवेश 12वीं कक्षा के प्राप्त अंकों के आधार पर मिलता था।

पढ़ें :- Moody's Cuts Economic Growth : मूडीज ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 8.8 फीसदी किया

13 भाषाओं में होगी प्रवेश परीक्षा

UGC के सार्वजनिक नोटिस के मुताबिक राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) द्वारा CUET का आयोजन हिन्दी, मराठी, गुजराती, तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मलयालम, उर्दू, असमिया, बंगाली, पंजाबी, उड़िया और अंग्रेजी भाषाओं में किया जाएगा। इसमें आगे कहा गया है कि CUET को राज्य, निजी और डिम्ड विश्वविद्यालयों द्वारा भी अपनाया जा सकता है।

प्रवेश देना सभी विश्वविद्यालयों की सामाजिक जिम्मेदारी

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) के चेयरमैन जगदीश कुमार ने कहा कि हमने विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए केंद्रीय विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (सीयूईटी) को अनिवार्य बनाने का फैसला किया है, जो 13 अलग-अलग भाषाओं में दिया जा सकता है। हमने छात्रों को बहुत सारे विकल्प दिए हैं। उन्होंने कहा कि हमने एक सार्वजनिक नोटिस भी जारी किया है जो स्पष्ट रूप से कहता है कि सभी विश्वविद्यालय प्रवेश के लिए केंद्रीय विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा स्कोर का उपयोग कर सकते हैं। सीयूईटी स्कोर को ध्यान में रखते हुए स्नातक के तहत प्रवेश देना सभी विश्वविद्यालयों की सामाजिक जिम्मेदारी है।

जगदीश कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालयों से कहा गया है कि उनकी मौजूदा आरक्षण और प्रवेश नीति में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा, लेकिन प्रवेश केंद्रीय विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (सीयूईटी) के आधार पर होना चाहिए।

पढ़ें :- Gyanvapi Case : ज्ञानवापी श्रृंगार गौरी मामले में 30 मई को फिर होगी सुनवाई, दोनों पक्ष में हुई जोरदार बहस, शिवलिंग से छेड़छाड़ का आरोप

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...