1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. भारत आज जो कहता है, दुनिया उसे आने वाले कल की आवाज मानती है : प्रधानमंत्री

भारत आज जो कहता है, दुनिया उसे आने वाले कल की आवाज मानती है : प्रधानमंत्री

स्वामी विवेकानंद की 159वीं जयंती पर पीएम मोदी ने पुडुचेरी को कई सौगात दीं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज स्वामी विवेकानंद की 159वीं जयंती के मौके पर पुडुचेरी में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 25वें राष्ट्रीय युवा महोत्सव का उद्घाटन किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने युवाओं को देश की असल ताकत बताते हुये कहा कि आज दुनिया भारत को एक आशा और विश्वास की दृष्टि से देख रही है। भारत आज जो कहता है, दुनिया उसे आने वाले कल की आवाज मानती है। क्योंकि,  भारत अपने सामर्थ्य और सपनों से युवा है। भारत अपने चिंतन और चेतना से भी युवा है।

पढ़ें :- IGL ने बढ़ाए पीएनजी के दाम, अब महंगी हो गई पाइप लाइन वाली घरेलू गैस

उन्होंने कहा कि भारत के युवाओं के पास डेमोग्राफिक डिविडेंड के साथ-साथ लोकतांत्रिक मूल्य भी हैं, उनका डेमोक्रेटिक डिविडेंड भी अतुलनीय है। भारत अपने युवाओं को डेमोग्राफिक डिविडेंड के साथ-साथ डवलपमेंट ड्राइवर भी मानता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज भारत के युवा में अगर टेक्नोलॉजी का आकर्षण है, तो लोकतन्त्र की चेतना भी है। आज भारत के युवा में अगर श्रम का सामर्थ्य है तो भविष्य की स्पष्टता भी है। इसलिए, भारत आज जो कहता है, दुनिया उसे आने वाले कल की आवाज मानती है।

आजादी में युवा पीढ़ी के बलिदान को किया याद

प्रधानमंत्री ने आजादी के लिये युवा पीढ़ी के बलिदान का उल्लेख करते हुये कहा कि आज के युवाओं को देश के लिये जीना है और हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के सपनों को पूरा करना है। उन्होंने युवाओं की क्षमता और सामर्थ्य का हवाला देते हुये कहा कि वो पुरानी रूढ़ियों का बोझ लेकर नहीं चलता। युवा, खुद को और समाज को नई चुनौतियों और नई मांग के हिसाब से विकसित कर सकता है।

इसके साथ-साथ उन्होंने ओपन एयर थियेटर युक्त एक प्रेक्षागृह पेरुनथलैवर कामराजर मनीमण्डपम का भी उद्घाटन किया, जिसे लगभग 23 करोड़ रुपये की लागत से पुडुचेरी सरकार ने निर्मित किया है। इसे मुख्य रूप से शैक्षिक उद्देश्य के लिये इस्तेमाल किया जायेगा। यहां एक हजार से अधिक व्यक्तियों के बैठने की क्षमता है।

प्रधानमंत्री ने “मेरे सपनों का भारत” और “अनसंग हिरोज ऑफ इंडियन फ्रीडम मूवमेन्ट” (भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के गुमनाम महानायक) पर चयनित निबंधों का अनावरण किया। एक लाख से अधिक युवाओं ने इन दो विषयों पर निबंध लिखे थे, जिनमें से कुछ निबंधों को चुना गया है।

पढ़ें :- Jharkhand में राजनीतिक घेराबंदी पर Hemant का हमला [ इंडिया वॉइस विश्लेषण ]
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...