1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. नूपुर शर्मा को पैगंबर पर टिप्पणी के लिए पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए: सुप्रीम कोर्ट

नूपुर शर्मा को पैगंबर पर टिप्पणी के लिए पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए: सुप्रीम कोर्ट

Supreme Court ने नूपुर शर्मा को फटकार लगाते हुए कहा कि उनके ही एक बयान के चलते माहौल खराब हो गया। यही नहीं अदालत ने कहा कि नूपुर शर्मा ने माफी मांगने में देरी कर दी और उनके चलते ही दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं हुईं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 1 जुलाई 2022। भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट ने पैगंबर पर टिप्पणी के मामले में फटकार लगाई है। सुप्रीम कोर्ट ने नूपुर शर्मा को पूरे देश से टीवी पर माफी मांगने को कहा है। इसके साथ ही उनकी केस को ट्रांसफर करने वाली याचिका को भी खारिज कर दिया गया है।

पढ़ें :- राजीव गांधी हत्याकांड: दोषियों की रिहाई पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश को चुनौती देगी कांग्रेस
आज सुप्रीम कोर्ट ने देश में फैल रहे वैमन्य को कम करने के लिए नूपुर शर्मा की टिप्पणी पर नाराजगी जताई। सुप्रीम कोर्ट ने नूपुर शर्मा की ट्रांसफर अर्जी पर सुनवाई करते हुए कहा कि देशभर में लोगों की भावनाओं को भड़का दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा देश में आज जो कुछ भी हो रहा है उसके लिए नूपुर ही जिम्मेदार है।

नूपुर शर्मा ने टीवी डिबेट पर पैगंबर पर जो टिप्पणी दी थी, उससे में आग लगा दी है। उदयपुर की घटना के लिए वो ही जिम्मेदार है। अतः नूपुर को टीवी पर आकर देश से माफी मांगनी चाहिए।

इस मामले में नूपुर के वकील ने पैगंबर पर की गई टिप्पणी को वापस लेने और उनकी क्षमायाचना पर विचार करने की बात कही तो पीठ ने कहा कि अब बहुत देर हो गई है।

भाजपा से निलंबित है नूपुर शर्मा

आपको बता दें कि टीवी शो पर डिबेट के समय नूपुर शर्मा भाजपा की प्रवक्ता थी। उन्होंने टीवी पर डिबेट के समय पैगंबर मोहम्मद पर एक टिप्पणी कर दी थी। जिसका काफी विरोध हुआ। यूएई, कुवैत, कतर सहित कई इस्लामिक देशों ने इस बयान की आलोचना की थी। इसके बाद भाजपा ने नूपुर शर्मा को निलंबित कर दिया था। नूपुर शर्मा ने बाद में अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांग ली थी। इसके साथ ही कहा था मैं अपने शब्दों को वापस लेती हूं। मैं किसी की भावना को ठेस नहीं पहुंचाना चाहती थी।

पढ़ें :- मोरबी पुल हादसे पर आज सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट, 135 लोगों की हुई मौत

नूपुर शर्मा के खिलाफ कई मामले दर्ज किये गये थे, इन सभी मामलों को दिल्ली ट्रांसफर करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। इसे खारिज कर दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें हाई कोर्ट जाने को कहा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...