1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. गृह मंत्रियों के चिंतन शिविर को PM मोदी ने किया संबोधित, कही ये बात, पढ़ें

गृह मंत्रियों के चिंतन शिविर को PM मोदी ने किया संबोधित, कही ये बात, पढ़ें

चिंतन शिविर के आखिरी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि आजकल देश में उत्सव का माहौल है। ओणम, ईद, दशहरा, दुर्गा पूजा, दीपावली सहित अनेक उत्सव शांति और सौहार्द के साथ देशवासियों ने मनाए हैं।

By आकृति 
Updated Date

गुरूवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गृहमंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में आयोजित हुए दो दिवसीय चिंतन शिविर में राज्यों के गृहमंत्रियों को संबोधित किया। देश की आंतरिक सुरक्षा और राज्यों के समक्ष सुरक्षा चुनौतियों को लेकर इस बैठक में चर्चा हुई।

पढ़ें :- गोवा में 24 नवंबर को ‘रोजगार मेला’ कार्यक्रम को संबोधित करेंगे प्रधानमंत्री मोदी, पढ़ें पूरी खबर

चिंतन शिविर के आखिरी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि आजकल देश में उत्सव का माहौल है। ओणम, ईद, दशहरा, दुर्गा पूजा, दीपावली सहित अनेक उत्सव शांति और सौहार्द के साथ देशवासियों ने मनाए हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा अभी छठ पूजा समेत कई अन्य त्यौहार भी हैं। विभिन्न चुनौतियों के बीच इन त्योहारों में देश की एकता का सशक्त होना आपकी तैयारियों का भी प्रतीक है। संविधान में भले ही कानून और व्यवस्था राज्यों का दायित्व है लेकिन ये देश की एकता और अखंडता के साथ भी उतने ही जुड़े हुए हैं। सूरजकुंड में हो रहा गृहमंत्रियों का ये चिंतन शिविर कोआपरेटिव फेडरलिज्म का एक उत्तम उदहारण है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हर एक राज्य एक दूसरे से सीखे, एक दूसरे से प्रेरणा ले, देश की बेहतरी के लिए मिलजुल के काम करे ये संविधान की भी भावना है और देशवाशियों के प्रति हमारा दायित्व भी है।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि आजादी का अमृत काल हमारे सामने है। आने वाले 25 साल देश में एक अमृत पीढ़ी के निर्माण के हैं। ये अमृत पीढ़ी पंच प्राणों के संकल्प को धारण करके निर्मित होगी। विकसित भारत का निर्माण गुलामी की हर सोच से मुक्ति, विरासत पर गर्व, एकता और एकजुटता और सबसे प्रमुख बात नागरिक कर्तव्य इस पंच प्राणों का महत्त्व आप सभी भली भांति समझते हैं।

पढ़ें :- PM Modi ने वाराणसी में 'काशी तमिल संगमम' कार्यक्रम का उद्घाटन किया, योगी आदित्यनाथ भी हुए शामिल

ये एक विराट संकल्प है जो सबके प्रयास से ही सिद्ध होगा। भले ही रास्ते और प्राथमिकता अलग हों लेकिन ये पंच प्राण देश के प्रत्येक राज्य में हमारी गवर्नेंस की प्रेरणा होनी चाहिए। जब ये सुशासन के मूल में होंगे तो भारत के सामर्थ्य का विराट विस्तार होगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...