1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. झारखंड के स्कूल में मुस्लिमों ने कहा स्कूल में हमारी संख्या 75 प्रतिशत, प्रार्थना सभा हमारे हिसाब से होगी, मामले को शिक्षा विभाग ने सुलझाया

झारखंड के स्कूल में मुस्लिमों ने कहा स्कूल में हमारी संख्या 75 प्रतिशत, प्रार्थना सभा हमारे हिसाब से होगी, मामले को शिक्षा विभाग ने सुलझाया

झारखंड के एक स्कूल में मुस्लिम बच्चों की संख्या बढ़ने पर बिना किसी अनुमति के हाथ जोड़ने वाली प्रार्थना को बंद करा दिया गया है। मामला बढ़ने पर शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने मामले को सुलझाया।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

झारखंड, 5 जुलाई 2022। झारखंड के गढ़वा जिले में एक सरकारी स्कूल में प्रार्थना को लेकर विवाद सामने आया है। जानकारी के अनुसार राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय में मुस्लिम बच्चों की संख्या ज्यादा है, तो बच्चों की प्रार्थना हाथ जोड़ने की बजाय हाथ बांधकर की जाने लगी। मामला प्रकाश में आया तो शिक्षा विभाग के अधिकारियों की नींद टूटी और मामले को सुलझाया गया।

पढ़ें :- Jharkhand News : चिरूडीह हत्याकांड मामले में योगेंद्र साव को हाईकोर्ट से मिली जमानत

मामले को बढ़ता देख शिक्षा विभाग के अधिकारियों की टीम ने मंगलवार स्कूल में पहुंचकर करीब पांच घंटों तक छानबीन की। जिसमें बात सामने कि स्कूल में पिछले करीब नौ सालों से इसी तरह से प्रार्थना होती आ रही है। हालांकि ऐसा करने की इजाजत किसने दी इसका पता नहीं चल पाया है।

स्कूल के हेडमास्टर जुगेश्वर राम ने कहा कि स्कूल में ज्यादातर बच्चे मुस्लिम समुदाय से आते हैं, यहां जब प्रार्थना होती है तो लोग हाथ नहीं जोड़ते हैं बल्कि सभी हाथ बांध लेते है। उन्होंने कहा कि मैंने इस नियम को बदलने की पहल तो की थी लेकिन लोग नहीं माने तो मैंने भी छोड़ दिया। विद्यालय में पढ़ने वाली छात्राओं ने भी कहा कि हमलोग हाथ बांधकर प्रार्थना करते हैं सर बोलते हैं, इसलिए करते हैं।

वहीं इस मामले को लेकर कोरवाडीह पंचायत के मुखिया शरीफ अंसारी ने कहा कि यह जानकर मैं हैरान हूं। इस गांव में गंगा-जमुनी तहजीब है, स्कूल नियम से चलेगा किसी कहने से नहीं, यदि किसी ने इस तरह कुछ कहा है तो हम उसे चिह्नित करेंगे, प्रार्थना और दुआ से इस गांव की बदनामी नहीं होने देंगे, ऐसा होगा तो मुखिया पद से इस्तीफा दे देंगे।

पढ़ें :- Ranchi SI Murdered: रांची में पशु तस्कर ने चेकिंग कर रही महिला दरोगा को रौंदा, मौके पर हुई मौत
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...