1. हिन्दी समाचार
  2. गैलरी
  3. The Lady Of Heaven : ब्रिटेन में पैगंबर मोहम्मद की बेटी पर बनी फिल्म, फिल्म को बैन करने की उठी मांग, जानें फिल्म में ऐसा क्या है?

The Lady Of Heaven : ब्रिटेन में पैगंबर मोहम्मद की बेटी पर बनी फिल्म, फिल्म को बैन करने की उठी मांग, जानें फिल्म में ऐसा क्या है?

हाल ही में ब्रिटेन में 'The Lady Of Heaven' नाम की फिल्म रिलीज हुई है। बताया जा रहा है कि फिल्म में पैगंबर मुहम्मद की बेटी फातिमा की कहानी दिखाई गई है। जिसे लेकर विरोध शुरू हो गया।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

ब्रिटेन में फिल्म ‘द लेडी ऑफ हेवेन’को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। फिल्म पर ईशनिंदा का आरोप लग रहा है। ब्रिटेन में फिल्म पर रोक लगाने की मांग की जा रही है। हालांकि ब्रेटिन सरकार ने फिल्म पर बैन लगाने से इंकार कर दिया है। विरोध प्रदर्शन करने वालों ब्रिटेन सरकार में सलाहकार लीड्स में मक्का मस्जिद के मुखिया इमाम कारी मुहम्मद असीम भी शामिल हैं। जिनको विरोध के बाद सलाहकार के पद से हटा दिया गया है।

पढ़ें :- Queen Elizabeth:रॉयल गार्ड के गिरने से हड़कंप ,महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के ताबूत के पास खड़ा था ये गार्ड

क्या है पूरा मामला ?

बतादें कि हाल ही में ब्रिटेन में ‘The Lady Of Heaven’ नाम की फिल्म रिलीज हुई है। बताया जा रहा है कि फिल्म में पैगंबर मुहम्मद की बेटी फातिमा की कहानी दिखाई गई है। जिसे लेकर विरोध शुरू हो गया। कई शहरों में फिल्म की स्क्रीनिंग के खिलाफ प्रदर्शन किया गया है। विरोध प्रदर्शन में लीड्स स्थित मक्का मस्जिद के मुखिया इमाम कारी मुहम्मद असीम भी शामिल हुए थे। असीम ब्रिटेन सरकार में सलाहकार और ‘एंटी मुस्लिम हेट्रेड वर्किंग ग्रुप के अध्यक्ष थे। अब ब्रिटेन सरकार ने मुहम्मद असीम को पद से हटा दिया है। इमाम ने इस फिल्म पर इस्लाम को नीचा दिखाने का आरोप लगाया था।

विरोध करने वालों का आरोप

फिल्म द लेडी ऑफ हेवेन का विरोध करने वालों का आरोप है कि पैगम्बर मोहम्मद और उनके परिवार के किसी सदस्य पर फिल्म बनाना धार्मिक भावनाओं को नुकसान पहुंचाना है। जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वहीं दूसरी ओर फिल्म के एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर मलिक शिबाक को सोशल मीडिया पर जान से मारने की धमकियां मिल रहीं हैं। उनका कहना है कि वो इन सबसे डरने वाले नहीं हैं। तो इस फिल्म के निर्माता मौलवी यासर अल-हबीब हैं, जो शिया मुस्लिम हैं। आरोप है कि यासर अल-हबीब ने सुन्नियों के कुछ शुरुआती प्रमुख श्रद्धेय शख्सियतों को गलत तरीके से पेश किया है। यही वजह है कि बड़ी संख्या में सुन्नी मुसलमान इसका विरोध कर रहे हैं।

पढ़ें :- महारानी एलिजाबेथ-II का निधन: किंग चार्ल्स III अब होंगे नए सम्राट, विलियम-केट होंगे प्रिंस एंड प्रिंसेस ऑफ वेल्स

फिल्म पर सरकार का रुख

वहीं ब्रिटेन सरकार ने एक पत्र जारी कर कहा है कि फिल्म के विरोध में चल रहे अभियान से सांप्रदायिक तनाव पैदा हो रहा है। इमाम ने इस अभियान को समर्थन देकर फ्री स्पीच के खिलाफ काम किया है। इसलिए सांप्रदायिक अमन-चैन कायम करने के सरकार के प्रयासों में उसका कोई रोल ना बताते हुए उसे हटा दिया गया है।
सरकार ने कहा कि कई सिनेमाघरों के बाहर जो दृश्य हैं, उन्हें आपने देखा-सुना होगा। इसमें मजहबी नारों के साथ शिया मुसलमानों के साथ घृणा फैलाई जा रही है। इसका हमें विरोध करना चाहिए।

फिल्म में ऐसा क्या है ?

‘द लेडी ऑफ हेवेन’ के डायरेक्टर मलिक श्लिबक ने कहा कि ये फिल्म लेडी फातिमा के जीवन, उनके संघर्ष और जिस यात्रा से वो गुजरी हैं उसकी कहानी को दर्शाता ही। मलिक ने कहा कि जैसा कि मुझे लगता है कि लेडी फातिमा हमारे इतिहास में सबसे अच्छी शख्सियत हैं, जिनसे हम सीख सकते हैं। हम उनसे सीख सकते हैं कि कैसे चरमपंथ, कट्टरता और भ्रष्टाचार जैसी चीजों से निपटा जाए। हमें लगा कि इस कहानी को दुनिया के सामने कहना बेहद जरूरी है।

पढ़ें :- UK PM: लिज ट्रस बनीं ब्रिटेन की नई प्राइम मिनिस्टर, भारतीय मूल के ऋषि सुनक को पीछे छोड़ा
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...