1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP में विधायकों के इस्तीफ़े के बीच भाजपा विधायक के अपहरण का मामला आया सामने, पढ़ें पूरा मामला

UP में विधायकों के इस्तीफ़े के बीच भाजपा विधायक के अपहरण का मामला आया सामने, पढ़ें पूरा मामला

यूपी में जब से चुनावी तारीखों का ऐलान हुआ है तब से सियासत में भूचाल मचा हुआ है। अब विधायक के अपहरण का ताजा मामला सामने आया है। पढ़ें क्या है पूरा मामला ?

By Ujjawal Mishra 
Updated Date

UP Assembly Election 2022 : उत्तर प्रदेश के विधुना से भाजपा विधायक विनय शाक्य इन दिनों चर्चा का विषय बने हुए हैं। दरअसल उनकी बेटी रीना शाक्य ने अपने पिता विनय शाक्य के अपहरण होने की बात कही है जिसके बाद से यूपी की राजनीति में भूचाल मचा हुआ है।

पढ़ें :- यूपी में दल बदल की राजनीति जारी, रश्मि आर्या समेत कई सपा नेता भाजपा में हुए शामिल

विधायक की बेटी ने वीडियो जारी कर कहा पिता का हुआ अपहरण 

आपको बता दें कि रीना शाक्य ने एक वीडियो जारी कर यह आरोप लगाया था कि उनके पिता विनय शाक्य को किडनैप कर लिया गया है। रीना ने अपने चाचा और अपनी दादी पर विनय शाक्य को अपहरण करने का आरोप लगाते हुए कहा कि मेरे पिता को मेरे चाचा और दादी ने किडनैप कर के उन्हें लखनऊ ले गए हैं। उन्होंने कहा कि कुछ लोग मेरे पिता को जबरदस्ती सपा में शामिल कराना चाहते हैं।

इस वीडियो के वायरल होने के बाद पुलिस भी हरकत में आ गई और खोजबीन शुरू हो गई। हालांकि कुछ घंटों बाद यह पता चला कि मामला कुछ और है। इस मामले पर औरेया के पुलिस अधीक्षक ने जानकारी देते हुए बताया कि विनय शाक्य पूरी तरह से सुरक्षित हैं और वो इटावा के शांति कॉलोनी स्थित घर में सुरक्षित हैं। सिर्फ इतना ही नहीं विधायक विनय शाक्य ने भी खुद मीडिया के सामने आकर यह बयान दिया है कि उनका अपहरण नहीं हुआ है और वह सुरक्षित हैं।

भाजपा छोड़ सपा का थामेंगे दामन

विनय शाक्य ने अपनी बेटी के आरोपों को निराधार बताते हुए कहा है कि वह पूरी तरह से सुरक्षित हैं और उनका अपहरण नहीं किया गया है। बल्कि उन्होंने यह स्वीकार किया कि वह फिलहाल स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ हैं और जल्द ही समाजवादी पार्टी में शामिल होंगे। बता दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने हाल ही में भाजपा से इस्तीफा देकर सपा का दामन थाम लिया है।

जिसके बाद से उनके कुछ करीबी विधायकों ने भी पार्टी का साथ छोड़ सपा में शामिल हो गए हैं। अब जानकारी मिल रही है कि विधुना से भाजपा विधायक विनय शाक्य भी स्वामी प्रसाद के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी में शामिल होंगे। यानी देखा जाय तो एक एक कर भाजपा को चुनाव से ठीक पहले जबरदस्त झटका लगा है।

पढ़ें :- अखिलेश vs योगी सरकार में कैसा रहा प्रदेश में अपराध का ग्राफ ? जानिए क्या कहते हैं NCRB के आंकड़े ?

रीना शाक्य ने लगाया था अपहरण का आरोप

दरअसल पिता को लेकर दिए अपने बयान में रीना शाक्य ने कहा था कि उनके पिता विनय शाक्य को 2018 में स्ट्रोक आया था। स्ट्रोक आने के बाद से उनके पिता ना तो सही ढंग से चल पाते हैं ना ही बोल पाते हैं। रीना ने अपने चाचा और दादी पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उनके चाचा और दादी उनके पिता का अपहरण कर उन्हें लखनऊ ले गए हैं। साथ ही उन्होंने यह भी आरोप लगाया था कि कुछ लोग उनके पिता पर जबरन दबाव डाल के समाजवादी पार्टी ज्वाइन कराना चाहते हैं। हालांकि अब विनय शाक्य ने साफ कर दिया है कि उनकी बेटी द्वारा लगाया गया आरोप निराधार है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...