1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Gyanvapi Case : हर मस्जिद में शिवलिंग ढूंढना सही नहीं, संघ प्रमुख के बयान से कई पार्टियां खुश, जानें क्या बोले सियासतदान

Gyanvapi Case : हर मस्जिद में शिवलिंग ढूंढना सही नहीं, संघ प्रमुख के बयान से कई पार्टियां खुश, जानें क्या बोले सियासतदान

भागवत ने कहा है कि हर मस्जिद में शिवलिंग को तलाशना ठीक नहीं। उनके इस बयान का कई राजनीतिक पार्टियों ने स्वागत भी किया है। इसमें कई विपक्षी दल भी शामिल हैं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नागपुर, 4 जून। देश में ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर हिंदू और मुस्लिम पक्ष आमने-सामने हैं। कर्नाटक की जामा मस्जिद को लेकर भी ऐसा ही दावा किया गया है तो कुतुबमीनार और ताजमहल के सर्वे की मांग भी उठ रही है। वहीं इस बीच संघ प्रमुख मोहन भागवत का एक बयान चर्चाओं में आ गया है। भागवत ने कहा है कि हर मस्जिद में शिवलिंग को तलाशना ठीक नहीं। उनके इस बयान का कई राजनीतिक पार्टियों ने स्वागत भी किया है। इसमें कई विपक्षी दल भी शामिल हैं।

पढ़ें :- Gyanvapi Case : ज्ञानवापी श्रृंगार गौरी मामले में 30 मई को फिर होगी सुनवाई, दोनों पक्ष में हुई जोरदार बहस, शिवलिंग से छेड़छाड़ का आरोप

देखें संघ प्रमुख ने क्या कहा ?

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर में संघ शिक्षा वर्ग, तृतीय वर्ष 2022 के समापन समारोह को संबोधित किया। जहां उन्होंने कहा कि इतिहास वो है जिसे हम बदल नहीं सकते। इसे ना आज के हिंदुओं ने बनाया और ना ही आज के मुसलमानों ने, ये उस समय घटा, हर मस्जिद में शिवलिंग क्यों तलाशना है?, ये ठीक नहीं है। हम विवाद क्यों बढ़ाना चाहते हैं? हर दिन हमें नया मामला नहीं लाना चाहिए।

संजय राउत ने भागवत के बयान को सराहा

संघ प्रमुख के बयान का शिवसेना ने स्वागत किया, शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि मैं उनके बयान का समर्थन करता हूं। ये रोज-रोज की अराजकता खत्म होनी चाहिए, नहीं तो देश को ही नुकसान होगा। मस्जिदों में शिवलिंग तलाशने के बजाय हमें ये विचार करना चाहिए कि कैसे कश्मीरी पंडितों की जान बचाई जा सकती है।

पढ़ें :- Gyanvapi Case : ज्ञानवापी हिन्दुओं को सौंपे केंद्र सरकार, काशी में ज्ञानवापी मस्जिद है ही नहीं- अखाड़ा परिषद

JDU का क्या है रुख?

JDU नेता और बिहार सरकार में मंत्री बिजेंद्र प्रसाद ने कहा कि देश बेवजह के विवादों में फंस रहा है। कानून में हर समस्या का समाधान है, लेकिन धर्म के नाम पर बिना मतलब तनाव बढ़ाने की कोशिश नहीं होनी चाहिए।

देवबंद के उलेमा का बयान

देवबंद के उलेमा मुफ्ती असद कासमी ने भी संघ प्रमुख भागवत के बयान का समर्थन किया है। उन्होंने कहा सभी देशवासी यही चाहते हैं कि देश में अमन-शांति कैसे बहाल हो। अगर हम मंदिर-मस्जिद की राजनीति में उलझ गए तो देश बर्बाद हो जाएगा।

पढ़ें :- Gyanvapi Case : ज्ञानवापी मामले में सुनवाई पूरी, मंगलवार को फैसला, कोर्ट परिसर में सुरक्षा के कड़े प्रबंध
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...