1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. केशव प्रसाद मौर्य ने सीएम योगी के साथ अपने रिश्ते को लेकर कह दी बहुत बड़ी बात

केशव प्रसाद मौर्य ने सीएम योगी के साथ अपने रिश्ते को लेकर कह दी बहुत बड़ी बात

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्य के बीच खींचतान की बात अक्सर की जाती रही है। अब हाल ही में केशव प्रसाद मौर्य ने सीएम योगी को लेकर बड़ी बात कही है।

By Ujjawal Mishra 
Updated Date

UP Assembly Election 2022 : उत्तर प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने एक बड़े सवाल पर विराम लगा दिया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्य के बीच खींचतान की बात अक्सर की जाती रही है।

पढ़ें :- गोरखपुर से बनारस जा रही इंटरसिटी एक्सप्रेस में बम की सूचना से मचा हड़कंप

डीडी उत्तर प्रदेश की ओर से शुक्रवार को होटल ताज में शुरू हुए डीडी कॉन्क्लेब के दूसरे सत्र में जब उनसे यह सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि खबर चलाने वालों को मैं नहीं रोक सकता लेकिन आज एक बात कहता हूं कि मेरे और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बीच ऐसा मजबूत सम्बन्ध है जो कभी टूटने वाला नहीं है।

अगले 25 वर्षों तक नहीं गलने वाला है अखिलेश का दाल

कॉन्क्लेव के दूसरे सत्र में ‘मिला सबका साथ कितना हुआ विकास’ विषय पर बोलते हुए केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि आज कमल का मतलब खुशहाली, भ्रष्टाचार मुक्त व्यवस्था, पारदर्शी व्यवस्था के तहत नौकरी, गुंडाराज का खात्मा और अपराधियों को जेल हो गया है। क्योंकि विपक्ष के पैरों के निचे से जमीन खिसक गई है।

उन्होंने सपा पर तंज कसते हुए कहा कि, अगर बुआ भतीजे एक भी हो जाएं तो भी अखिलेश यादव का कोई खाता यहां खुलने वाला नहीं है। मौर्य ने कहा कि वैसे भारतीय जनता पार्टी अगले 25 वर्षों तक के लिए खाका खींच राखी है तब तक अखिलेश यादव की दाल यहां नहीं गलने वाली है।

पढ़ें :- कांग्रेस की पोस्टर गर्ल अब भाजपा का थामेंगी हाथ ! कांग्रेस पर लगाया बहुत बड़ा आरोप

अखिलेश यादव को बताया विकास में सबसे बड़ा अवरोधक 

केशव प्रसाद मौर्य ने अखिलेश पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि, विकास में सबसे बड़े और अवरोधक मुख्यमंत्री के रूप में यदि किसी का नाम लिया जाएगा तो वह अखिलेश यादव का होगा। मैंने सांसद रहते हुए देखा है कि, केंद्र सरकार की कई योजनाएं ऐसी थी जिसे अखिलेश यादव की सरकार ने रोक लगाई थी। उन्हें डर था कि यदि मोदी सरकार की योजनाएं लागू कर दी गयी तो 2017 में उनकी साइकिल पंचर हो जाएगी।

हालांकि उनकी साइकिल पंचर हो गयी। उन्होंने कहा कि, समाजवादी पार्टी की सरकार ने केवल जातिवाद और तुष्टीकरण को बढ़ावा देने का काम किया है। 2013 का कुम्भ अखिलेश सरकार में हुआ उस कुम्भ में वह नहाने नहीं गए। पर 2019 के भव्य एवं दिव्य कुम्भ में अखिलेश यादव ना सिर्फ कुंभ गए बल्कि उन्होंने डुबकी भी लगाया। इसके दो कारण है। पहला यह कि उन्हें अहसास हो गया कि अब तुष्टीकरण की राजनीति नहीं चल पाएगी। दूसरा यह कि हमारी सरकार ने बेहतरीन व्यवस्था की। गंगा जी साफ हुईं।

कई चौराहों पर लुंगी छाप गुंडे सक्रीय थे – केशव प्रसाद मौर्या

केशव प्रसाद ने हमलावर होते हुए आरोप लगाया कि, प्रयागराज में कई चौराहों पर लुंगी छाप गुंडे सक्रीय थे। उस चौराहे पर कोई सामान्य व्यक्ति नहीं जा सकता था। यहां तक कि उन चौराहों से होकर बहनें निकल नहीं सकती थीं। उन्होंने कहा कि, यह व्यवस्था प्रदेश के कई जिलों में था।

पढ़ें :- नेताओं की पहली पसंद क्यों है लखनऊ कैंट विधानसभा सीट ? इस सीट के लिए क्यों छिड़ी है जंग ?

पर आज भाजपा की सरकार मे वह परिस्थिति नहीं है। आज हमारी बहन, बेटियां सुरक्षित हैं। आमजन में विश्वास है कि भाजपा सरकार ही प्रदेश के लिए और उनके लिए उन्नयन का कार्य करेगी। भाजपा सरकार में ही प्रदेश का भविष्य सुरक्षित है।

विपक्ष को बताया चुनावी हिन्दू

केशव प्रसाद मौर्य ने तो अपने संबोधन में विपक्ष को चुनावी हिन्दू भी कह दिया। केशव ने कहा कि अगर वह सच्चे होते तो कपड़े के ऊपर जनेव नहीं धारण करना पड़ता। जो लोग अपनी सरकार में 2013 में आयोजित कुम्भ में प्रयागराज नहीं गए बल्कि 2019 में डुबकी लगाए।

ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें यह पता चल गया कि तुष्टीकरण की राजनीति नहीं चलने वाली है। बुलडोजर किसी गरीब पर नहीं चलता। माफियाओं और अपराधियों की काली कमाई ढहाने के लिए बुलडोजर चलता है।

तीसरी लहर से लड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार 

केशव प्रसाद मौर्य ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर कहा कि, हमने जिस तरह से कोरोना की पहली और दूसरी लहर का सामना किया गया है, उसी तरह से हम तीसरी लहर से लड़ने के लिए भी तैयार हैं। 2017 में जब हम सत्ता में आये तब प्रदेश में छह हजार किमी राष्ट्रीय राजमार्ग थे। आज हमारे पास 12 हजार किमी हैं।

पढ़ें :- BJP में शामिल होने के बाद अपर्णा यादव चुनाव में निभा सकती हैं बड़ी भूमिका

अगर अखिलेश यादव की सरकार ने अवरोध पैदा नहीं किये होते तो करीब दो हजार किलोमीटर राजमार्ग उनके कार्यकाल में ही बन गए होते। 70 राजमार्ग हमारी सरकार ने नए राजमार्ग बनाये। हमारी सरकार मेधावी बच्चों के नाम से सड़क बनाते हैं। शहीदों के नाम पर सड़क का निर्माण कर रहे हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...