1. हिन्दी समाचार
  2. झारखंड
  3. झारखंड में गर्म हुई सियासत, मुख्यमंत्री समेत कई मंत्री आरोपों के घेरे में, कैसे चलेगी गठबंधन की सरकार ?

झारखंड में गर्म हुई सियासत, मुख्यमंत्री समेत कई मंत्री आरोपों के घेरे में, कैसे चलेगी गठबंधन की सरकार ?

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर और उनके भाई पर खदान लीज का मामला भी चर्चा में बना हुआ है इसको लेकर विपक्षी दल हेमंत सोरेन को बर्खास्त किए जाने की मांग राज्यपाल से कर रहे है।

By Akash Singh 
Updated Date

झारखंड में दिन प्रतिदिन सियासत तेज होती नजर आ रही है, दोनों सत्ताधारी दलों के बीच सब कुछ ठीक ना चलने की खबरों के साथ मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर और उनके भाई पर खदान लीज का मामला भी चर्चा में बना हुआ है इसको लेकर विपक्षी दल हेमंत सोरेन को बर्खास्त किए जाने की मांग राज्यपाल से कर रहे है।

पढ़ें :- झारखंड की सैर [ इंडिया वायस विश्लेषण ]

इसी के साथ मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार अभिषेक प्रसाद उर्फ पिंटू पर भी आरोप है उनकी संस्था पर 11.70 करोड जमीन पर खदान की लीज 10 वर्ष देने का आरोप है। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा के नाम पर भी आरोप लगाया गया है। इतना ही नहीं झारखंड के कई मंत्रियों पर भी लगातार आरोप लगाए जा रहे हैं।

मंत्रियों की हो रही बर्खास्त करने की मांग

झारखंड सरकार में मंत्री बन्ना गुप्ता पर कोविड राशि में घोटाला करने का आरोप पर इसको लेकर झारखंड के सभी विपक्षी दल मंत्री बन्ना गुप्ता को बर्खास्त करने की मांग कर रहे हैं।  वहीं झारखंड सरकार में वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव को भी हाईकोर्ट ने नामांकन पत्र में तथ्यों को छुपाने से संबंधित नोटिस जारी किया है। इस संबंध में पूर्व विधायक सुखदेव भगत ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी। उनके खिलाफ यह भी आरोप था कि रामेश्वर उरांव की बहू ने घरेलू हिंसा का मामला भी दर्ज कराया था, लेकिन इस बात की जानकारी उन्होंने अपने नामांकन पत्र में नहीं दी थी। जबकि नियम है कि सभी प्रकार की जानकारियों को नामांकन पत्र में देना अनिवार्य है। इस संबंध में सुखदेव भगत वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव को बर्खास्त करने की मांग कर रहे हैं।

रघुबर दास ने लगाये आरोप

पढ़ें :- IAS Pooja Singhal Case : तीन जिलों के खनन पदाधिकारियों को समन, हो सकती है बड़ी कार्यवाई

राज्य में 34 वें राष्ट्रीय खेल घोटाले और 424 करोड़ के मेगा स्पोर्ट्स कांप्लेक्स निर्माण से संबंधित अनियमितता की सीबीआई जांच भी शुरू हो गई है इस मामले में 2 केस दर्ज किए गए जिसे रांची के सीबीआई ने दर्ज किया है। पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने भी बीते दिन प्रेस वार्ता कर हेमंत सरकार पर लगातार कई बड़े हमले किए उन्होंने मुख्यमंत्री की पत्नी पर जमीन आवंटित करने का आरोप लगाने के साथ ही मुख्यमंत्री के भाई और उनके प्रेस सलाहकार पर भी कई गंभीर आरोप लगाए।

क्या खुल जायेगी गठबंधन की गाँठ 

इसके बाद झारखंड मुक्ति मोर्चा ने भी प्रेस वार्ता कर रघुवर दास के सवालों का जवाब दिया झारखंड में आरोप और प्रत्यारोप का दौर लगातार चल रहा है ऐसे में राजनीतिक जानकारों का यह भी मानना है सत्ता में जो दल हैं उनकी आपस में सहमति नहीं बन पा रही है कॉमन मिनिमम प्रोग्राम जैसे कई मामलों पर अभी तक सहमति नहीं बनी है जिसके बाद बार-बार यह सवाल बना हुआ है कि अगर बंधन की सरकार का गठबंधन कितने दिनों तक बना रहेगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...