1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Tamilnadu News:कांग्रेस पार्टी मुख्यालय में दो समूहों के बीच हाथापाई, हिंसक झड़प में कांग्रेस के 4 कार्यकर्ता घायल

Tamilnadu News:कांग्रेस पार्टी मुख्यालय में दो समूहों के बीच हाथापाई, हिंसक झड़प में कांग्रेस के 4 कार्यकर्ता घायल

Violence News:चेन्नई में कांग्रेस पार्टी मुख्यालय में मंगलवार को दो समूहों के बीच जमकर हाथापाई हुआ,देखते-देखते यह हँगामा काफी बढ़ गया और अचानक से हँगामा में हिंसक झड़प शुरू हो गया,यह हिंसक झड़प टीएनसीसी कोषाध्यक्ष और नंगुनेरी विधायक रूबी आर मनोहरन के समर्थकों के बीच हुई है,कांग्रेस के 4 कार्यकर्ता इस झड़प में बुरी तरह से घायल हो गए है

By रेनू मिश्रा 
Updated Date

chennai news:चेन्नई में कांग्रेस पार्टी मुख्यालय में मंगलवार को दो समूहों के बीच जमकर हाथापाई हुआ,देखते-देखते यह हँगामा काफी बढ़ गया और अचानक से हँगामा में हिंसक झड़प शुरू हो गया,यह हिंसक झड़प टीएनसीसी कोषाध्यक्ष और नंगुनेरी विधायक रूबी आर मनोहरन के समर्थकों के बीच हुई है,कांग्रेस के 4 कार्यकर्ता इस झड़प में बुरी तरह से घायल हो गए है,कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के बाद निर्वाचन क्षेत्र में पार्टी का झंडा फहराने पर चर्चा हो रही थी,इसी चर्चा के दौरान अचानक झड़प शुरू हो गई।

पढ़ें :- कांग्रेस के पूर्व विधायक आसिफ खान पुलिसवालों से बदतमीजी करने के आरोप में गिरफ्तार

TNCC(टीएनसीसी) मुख्यालय सत्यमूर्ति भवन में हुई हंगामे मे पार्टी के 4 कार्यकर्ता घायल हो गए हैं.अभी तक पार्टी ने पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं कराई है. हाल ही में कांग्रेस के दो प्रखंड अध्यक्षों कलक्कड़ और नंगुनेरी के चुनाव परिणामों की घोषणा से क्षुब्ध मनोहरन के समर्थक पांच बसों में सवार होकर पार्टी मुख्यालय पहुंचे थे. आरोप यह था कि ब्लॉक अध्यक्षों, तिरुनेलवेली पूर्वी डीसीसी अध्यक्ष केपीके जयकुमार के समर्थकों को स्थानीय विधायक मनोहरन की जानकारी के बिना चुना गया था.यह विरोध TNCC(टीएनसीसी)अध्यक्ष के. एस. अलागिरी द्वारा एआईसीसी सचिवों, पूर्व टीएनसीसी अध्यक्षों, कार्यकारी अध्यक्षों, पूर्व विधायकों और सांसदों और मौजूदा विधायकों और सांसदों के साथ संसद चुनावों पर चर्चा करने और प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस के झंडे के खंभे लगाने के लिए निर्धारित बैठक के दौरान हुआ

इस बैठक में शामिल पार्टी के एक नेता ने बताया कि जब मनोहरन ने जोर देकर कहा कि पार्टी के भीतर हुए चुनाव को रद्द कर दिया जाना चाहिए तो अलागिरी ने कहा कि टीएनसीसी प्रमुख के रूप में उन्होंने कभी भी चुनावों में हस्तक्षेप नहीं किया और उनके पास इस तरह की भूमिका निभाने की कोई शक्ति नहीं थी. क्योंकि पार्टी के रिटर्निंग अधिकारियों द्वारा इसकी देखरेख की जाती थी. वहीं अलागिरी ने ‘अराजक तत्वों’ के खिलाफ पार्टी आलाकमान द्वारा कड़ी कार्रवाई की मांग की. बाद में पुलिस ने घायल कांग्रेस कार्यकर्ताओं को रेस्क्यू किया.

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...