Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. भारत में बनी आई ड्रॉप EzriCare को लेकर अमेरिका में अलर्ट, कंपनी ने दवाई वापस मंगाई

भारत में बनी आई ड्रॉप EzriCare को लेकर अमेरिका में अलर्ट, कंपनी ने दवाई वापस मंगाई

कंपनी की ‘आई ड्रॉप’ के उपयोग से अमेरिका में कथित तौर पर लोगों की आंखों की रोशनी चले जाने के बाद अब केंद्र सरकार और राज्य औषधि नियामकों की दो टीम चेन्नई के नजदीक स्थित ‘ग्लोबल फार्मा हेल्थकेयर’ के विनिर्माण संयंत्र का निरीक्षण करेगी.

By इंडिया वॉइस 

Updated Date

EzriCare Eye Drops: भारत में बनी आई ड्रॉप के अमेरिका में विवादों के घेरे में आने के बाद भारतीय कंपनी ने इसे वापस मंगवा लिया है. दरअसल अमेरिका की सेंटर फॉर डीजीड कंट्रोल एंड प्रिवेंन (सीडीसी) नाम के विभाग ने लोगों से अपील की है कि वह इस आई ड्रॉप का इस्तेमाल तुंरत बंद कर दें. भारत में बनी इस दवा को एक खास तरह के इंफेक्शन के लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा है. इस आई ड्रॉप का नाम एजरीकेयर आर्टिफिशियल टियर्स है. इस आई ड्रॉप का निर्माण ग्लोबल फार्मा हेल्थकेयर प्राइवेट लिमिटेड की ओर से किया जाता है. एजरीकेयर आई ड्रॉप्स का निर्माण भारत में किया जाता है. कंपनी ने दवाई को वापस मंगाया है.

पढ़ें :- हरियाणाः ट्रक ने तीन युवकों को कुचला, तीनों की मौत, परिजनों में कोहराम

केंद्र और राज्य औषधि नियामकों की दो टीम चेन्नई के नजदीक स्थित ‘ग्लोबल फार्मा हेल्थकेयर’ के विनिर्माण संयंत्र का निरीक्षण करेगी. दरअसल, कंपनी की ‘आई ड्रॉप’ के उपयोग से अमेरिका में कथित तौर पर लोगों की आंखों की रोशनी चले जाने के बाद उसने इस उत्पाद को बाजार से वापस ले लिया है. दोनों दलों में तीन-तीन अधिकारी हैं. उन्होंने बताया कि यह आई ड्रॉप भारत में नहीं बेची जा रही.

कंपनी ने दवाई वापस मंगाई

चेन्नई स्थित दवा कंपनी ने आई ड्रॉप की खेप को वापस मंगाया है. ग्लोबल फार्मा हेल्थकेयर ने अपनी वेबसाइट पर पोस्ट किए गए एक बयान में कहा है कि वह इस प्रोडक्ट के डिस्ट्रीब्यूटर अरु फार्मा इंक/एजरीकेयर और डेलसम फार्मा को सूचित कर रही है और अनुरोध कर रही है कि दवाई को वापस लिया जाए और इसका उपयोग बंद कर देना चाहिए.

सीडीसी कर रहा आई ड्रॉप्स की जांच

पढ़ें :- पंजाबः हेरोइन के साथ ड्रग तस्कर को किया गिरफ्तार, दो साथी फरार

सीडीसी इस आई ड्रॉप की बंद बोतलों की जांच कर रही है. वहीं ग्लोबल फार्मा हेल्थकेयर ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि कंपनी “EzriCare, LLC- और Delsam Pharma द्वारा वितरित उनके आर्टिफिशियल टीयर्स लुब्रिकेंट आई ड्रॉप्स की समाप्ति के भीतर सभी लॉट को स्वेच्छा से वापस मंगवा रही है.”

इंफेक्शन से कई लोग पीड़ित
जानकारी के मुताबिक इंफेक्शन से अब तक 55 लोग पीड़ित हैं और एक की मौत की भी खबर है. अधिकारियों के मुताबिक ये इंफेक्शन 12 राज्यों में फैला है और इसका असर खून, पेशाब और फेफड़ों पर हो रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस दवा का इस्तेमाल करने वाले मरीजों ने बताया कि ये दवा बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के केमिस्ट की दुकान पर उपलब्ध होती है और इसका इस्तेमाल आंखों में खुजली और ड्राईनेस को ठीक करने के लिए किया जाता है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबित सीडीसी के एक प्रवक्ता ने अब तक, 11 में से कम से कम पांच मरीजों कीआंखों में सीधे संक्रमण हुआ है, उनकी आंखों की रोशनी चली गई है.

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com