1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. MonkeyPox : विश्व स्वास्थ्य संगठन की चेतावनी, दुनिया पर छाया मंकीपॉक्स का खतरा, तेज हो सकता है संक्रमण

MonkeyPox : विश्व स्वास्थ्य संगठन की चेतावनी, दुनिया पर छाया मंकीपॉक्स का खतरा, तेज हो सकता है संक्रमण

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक हाल के दिनों में मंकीपॉक्स के शिकार लोगों में से 3 से 6 प्रतिशत लोगों की मृत्यु हो गयी है। मंकीपॉक्स का विषाणु घावों, शरीर के तरल पदार्थों, श्वसन बूंदों और बिस्तर से व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

जेनेवा, 21 मई। कोरोना महामारी से जूझ चुकी दुनिया पर अब मंकीपॉक्स वायरस का खतरा मंडरा रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस बाबत चेतावनी जारी करते हुए कहा कि भविष्य में मंकीपॉक्स का संक्रमण तेज से फैल सकता है।

पढ़ें :- Bihar : सीढ़ियों से बिगड़ा लालू यादव का संतुलन, कंधे-कमर में आई चोट, इलाज के बाद घर लौटे लालू

9 देशों में मंकीपॉक्स से संक्रमित मरीज मिले

बतादें कि दुनिया में मंकीपॉक्स के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। अबतक अफ्रीका और यूरोप के 9 देशों में मंकीपॉक्स से संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। अमेरिका, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में भी मंकीपॉक्स के मामले सामने आ चुके हैं। मंकीपॉक्स के लगातार बढ़ते मामलों से परेशान विश्व स्वास्थ्य संगठन की यूरोप इकाई ने इस मसले पर आपात बैठक की।

लोगों से सावधान रहने की अपील

बैठक के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गर्मी बढ़ने के साथ ही इस विषाणु का संक्रमण और तेजी से फैल सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के यूरोप स्थित क्षेत्रीय निदेशक हैंस क्लग ने लोगों को सावधान होने को कहा है। उन्होंने कहा कि बड़े पैमाने पर होने वाले किसी भी समारोह, त्योहार आदि में मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति के शामिल होने से वो बाकी लोगों में संक्रमण फैला सकता है। इसलिए अतिरिक्त सावधानी बरते जाने की जरूरत है।

पढ़ें :- Femina Miss India : टॉप 31 में पहुंचीं राज्य की पहली आदिवासी महिला रिया तिर्की, CM सोरेन ने दी बधाई

हर स्तर पर सावधानी बरतने की जरूरत

दरअसल मंकीपॉक्स चेचक से मिलती जुलती एक बीमारी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि बीमारी का संचरण मां से भ्रूण में पहुंचने पर जन्मजात मंकीपॉक्स के रूप में हो सकता है। इसके अलावा बच्चे के जन्म के दौरान या बाद में निकट संपर्क के माध्यम से भी हो सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक हाल के दिनों में मंकीपॉक्स के शिकार लोगों में से 3 से 6 प्रतिशत लोगों की मृत्यु हो गयी है। मंकीपॉक्स का विषाणु घावों, शरीर के तरल पदार्थों, श्वसन बूंदों और बिस्तर से व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। इसलिए हर स्तर पर सावधानी बरतने की जरूरत है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...