1. हिन्दी समाचार
  2. झारखंड
  3. पूजा सिंघल के उपायुक्त रहते खूंटी में भी हुआ था 18 करोड़ का घोटाला

पूजा सिंघल के उपायुक्त रहते खूंटी में भी हुआ था 18 करोड़ का घोटाला

खूंटी जिला बनने के बाद पूजा सिंघल जिले की दूसरी उपायुक्त बनी। उनके कार्यकाल में ही नव गठित खूंटी जिले में 18.6 करोड़ का घोटाला हुआ था।

By Akash Singh 
Updated Date

रांची : झारखंड की उद्योग और खनन विभाग की सचिव पूजा सिंघल शुक्रवार को अचानक सुर्खियों में आ गयी। रांची समेत देश भर में उनके ठिकानों पर इडी की छापेमारी के बाद खूंटी में भी चर्चा का बाजार गर्म हो गया है। सिंघल को लेकर शहर के चौक चौराहों में जितनी-मुंह उतनी बातें हो रही हैं। खूंटी जिला बनने के बाद पूजा सिंघल जिले की दूसरी उपायुक्त बनी। उनके कार्यकाल में ही नव गठित खूंटी जिले में 18.6 करोड़ का घोटाला हुआ था।

पढ़ें :- IAS Pooja Singhal Case : तीन जिलों के खनन पदाधिकारियों को समन, हो सकती है बड़ी कार्यवाई

इस मामले में उपायुक्त का खास कहे जाने वाले तत्कालीन कनीय अभियंता राम विनोद सिन्हा को गिरफ्तार किया गया था, लेकिन उपायुक्त पूजा सिंघल का बाल बांका भी नहीं हुआ। उनके उपायुक्त रहने के दौरान कनीय अभियंता राम विनोद सिन्हा उनका खासम खास बना हुआ था। जिले में संचालित तमाम विकास योजनाओं की जिम्मेवारी घोषित या अघोषित रूप से राम विनोद सिन्हा को ही मिलती थी। नियम कायदों को ताख पर रखकर योजनाओं में उसे अग्रिम के रूप में मोटी रकम का भुगतान किया जाता था। घोटाला उजागर होने के बाद कई प्रमुख योजनाएं अधर में लटक गयीं। इनमें सदर अस्पताल का भवन भी शामिल है। लोगों का कहना है कि पूजा सिंघल के खिलाफ कार्रवाई तो होनी ही थी। उनका भ्रष्ट आचरण जगजाहिर है। नये खूंटी जिले में जब विकास योजनाओं को धरातल में उतारने जरूरत थी, तब पूजा सिंघल ने कनीय अभियंता राम विनोद सिन्हा के कंधे पर बंदूक रखकर खूब गड़बड़ घोटाला किया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...