Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. आज से दिल्ली विधानसभा का सत्र, सदन में जमकर हंगामे के आसार

आज से दिल्ली विधानसभा का सत्र, सदन में जमकर हंगामे के आसार

दिल्ली विधानसभा का सत्र 16 जनवरी यानी आज से शुरू हो रहा है. इस सत्र में जबरदस्त हंगामा देखने को मिल सकता है. हंगामे की वजह दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपराज्यपाल के विवाद और मेयर चुनाव सदन में मुद्दा हो सकता है.

By Ruchi Kumari 

Updated Date

Delhi Assembly Session: 16 जनवरी से दिल्ली विधानसभा (Delhi Assembly) के तीन दिवसीय सत्र की शुरुआत होगी. हाल ही में मेयर चुनाव को लेकर हुए हंगामें और AAP सरकार की LG से चल रही टकराव का असर विधानसभा सत्र के दौरान भी देखने को मिलेगा. दिल्ली की सातवीं विधानसभा के सत्र में हंगामे के आसार नजर आ रहे हैं. कोरोना के मद्देनजर विधानसभा सत्र के दौरान मास्क लगाना अनिवार्य किया गया है.

पढ़ें :- फिर टला मेयर, डिप्टी मेयर और स्टैंडिंग कमेटी के सदस्यों का चुनाव , AAP और BJP पार्षदों के बीच हुआ जोरदार हंगामा

हंगामेदार होगा इस बार सत्र

इस बार दिल्ली विधानसभा का सत्र हालिया मेयर चुनाव विवाद और आप सरकार और एलजी के बीच जारी टकराव के चलते हंगामेदार रहने वाला है.

बता दें कि दिल्ली की सातवीं विधानसभा के चौथा सत्र तीन दिवसीय रहने वाला है, इस, बार 16 जनवरी से दिल्ली विधानसभा का सत्र शुरू होगा. सत्र 18 जनवरी तक चलेगा. अगर जरूरत पड़ी तो स्पीकर सदन की कार्यवाही को एक दो दिन के लिए बढ़ा सकते हैं.

दिल्ली सरकार और LG के बीच नया तकरार

पढ़ें :- दिल्ली को आज मिल सकता है नया मेयर, फिर AAP-BJP के भिड़ने के आसार

विधानसभा सत्र की शुरुआत से एक दिन पहले ही दिल्ली सरकार और LG विनय कुमार सक्सेना के बीच एक नई तकरार सामने आई है. ये तकरार मोहल्ला क्लीनिक को लेकर शुरू हुई है. दरअसल मोहल्ला क्लीनिक के डॉक्टर्स की सैलरी रोकने के मुद्दे पर उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल वीके सक्सेना को एक चिट्ठी लिखी है. मनीष सिसोदिया ने लिखा है कि MCD चुनाव से दो महीने पहले से ही मोहल्ला क्लीनिक के डॉक्टर्स को सैलरी नहीं दी जा रही है और षड्यंत्र छुपाने के लिए अधिकारी बहाने बना रहे हैं.

BJP द्वारा सत्र को बढ़ाने की मांग

BJP द्वारा दिल्ली विधानसभा के तीन दिवसीय सत्र को बढ़ाने और उसमें प्रश्नकाल जोड़ने की मांग की गई थी. विधानसभा सत्र के दौरान विपक्ष को बोलने का ना तो पूरा समय दिया जाता है और ना ही प्रश्नकाल रखा जाता है. इसके साथ ही BJP ने प्रदेश की AAP सरकार को तानाशाह बताते हुए कहा कि वो जनता के सवालों से बचना चाहती है. हालांकि जरूरत पड़ने पर सदन के स्पीकर द्वारा कार्यवाही को बढ़ाया जा सकता है.

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com